अल्पसंख्यक वोटरों के लिए अलग रणनीति तैयार कर रही है तृणमूल

सिद्दिकुल्ला और हाजी नुरुल इस्लाम बनेंगे अल्पसंख्यकों के चेहरे !
कोलकाता : बंगाल के विधानसभा चुनाव में अल्पसंख्यक वोटरों की भूमिका करीब 70 सीटों पर निर्णायक मानी जाती है। इन सीटों पर अपना दबदबा बनाने के लिए फुरफुरा शरीफ के पीरजादा मीम के प्रमुख ओवैसी के साथ मिलकर अपनी नई पार्टी बनाने की राह पर निकल पड़े हैं। दूसरी तरफ तृणमूल है जिनके लिए अल्पसंख्यकों का यह वोट बैंक काफी मायने रखता है। अल्पसंख्यकों के इस वोट बैंक के लिए तृणमूल भी पीछे नहीं है और पीरजादा के खिलाफ तृणमूल एक अलग ही रणनीति बनाने के मूड में आ गई है। पीरजादा ने कहा है कि 21 जनवरी को वह 10 फ्रंट को मिलाकर अपनी नई पार्टी की घोषणा करेंगे। पीरजादा के इस बयान के बाद तृणमूल भी इस क्षेत्र में कड़ा कदम उठाने की ओर कार्य चालू कर दिया गया है। पार्टी सूत्रों की माने तो अल्पसंख्यक वोटों के लिए सिद्धि कुल्ला चौधरी और हाजी नुरूल इस्लाम को अपना चेहरा बनाने के की तैयारी में है, जिनका अच्छा खासा दबदबा अल्पसंख्यक इलाकों में माना जाता है। हालांकि पार्टी की तरफ से इस बारे में अब तक कुछ भी खुलकर नहीं बताया गया है। इतना जरूर है कि इस पर रणनीति शुरू कर दी गई है। इंतजार है पीरजादा के नई पार्टी की घोषणा की और उनकी रणनीति पर जिसके आधार पर तृणमूल अगला कदम उठाएगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सर्दियों में नाखूनों के आसपास की निकलती है खाल ? राहत देंगे ये घरेलू उपाय

कोलकाता : सर्दियों के मौसम में अक्सर कई लोग नाखूनों के आस-पास की खाल निकलने की शिकायत करते हैं। इसकी वजह से न सिर्फ व्यक्ति आगे पढ़ें »

खाने में नमक-मिर्च हो गया है ज्यादा तो कम करने के लिए अपनाएं ये उपाय

कोलकाता : भोजन बनाना एक कला है। इसमें बरती गई थोड़ी सी भी लापरवाही आपके मूड के साथ-साथ खाने का स्वाद भी बिगाड़ सकती है। आगे पढ़ें »

ऊपर