भाटपाड़ा में तृणमूल ने लाया अविश्वास प्रस्ताव

भाटपाड़ा : भाटपाड़ा नगरपालिका के 18 भाजपा पार्षदों के पुनः तृणमूल में शामिल होने के बाद ही तृणमूल ने यहां बोर्ड दखल करने का दावा कर दिया था और पूर्व घोषणा के अनुसार शुक्रवार को तृणमूल पार्षद महसूद आलम के नेतृत्व में तृणमूल पार्षदों ने नगरपालिका के एक्जिक्यूटिव ऑफिसर को चेयरमैन सौरभ सिंह के विरुद्ध अपना अविश्वास प्रस्ताव सौंप दिया।

तृणमूल से ही उम्मीदें हैं

वे इस बाबत चेयरमैन,महकमा शासक व जिला शासक को औपचारिक सूचना देंगे। इस दिन अविश्वास प्रस्ताव लाने के बाद पार्षद महसूद आलम ने कहा कि भाटपाड़ा की जनता को सिर्फ तृणमूल से ही उम्मीदें हैं जिसे हमें पूरा करना है। तृणमूल पार्षदों को डरा-धमकाकर भाजपा में शामिल करवाया गया था मगर डर दिखाकर किसी को ज्यादा दिनों तक दबाव में नहीं रखा जा सकता।

पिछले कई महीनों से परिसेवांए ठप हैं

प्रशासन का सहयोग पाकर 18 पार्षदों ने पुनः पार्टी में वापसी की है। यहां 18 वार्डों पर कब्जे के साथ हम बहुमत में हैं। भाजपा चेयरमैन के कार्यों से हम संतुष्ट नहीं हैं जिस कारण उनके विरुद्ध इस दिन हमने अविश्वास लाया है। जल्द ही नगरपालिका बोर्ड दखल कर तृणमूल यहां काम शुरू करेगी। वहीं भाटपाड़ा के तृणमूल पर्यवेक्षक सोमनाथ श्याम ने कहा कि चेयरमैन सौरभ सिंह के नेतृत्व में पिछले कई महीनों से परिसेवाएं ठप हैं। पूर्व कर्मियों की पेंशन,नगरपालिका के कर्मी, स्थायी व अस्थायी सफाई कर्मियों का वेतन नहीं दिया गया है। फंड की हेरा-फेरी हुई है। इसका जवाब उन्हें जनता को देना पड़ेगा।

अविश्वास प्रस्ताव बेमाने हैं

वहीं अविश्वास प्रस्ताव को लेकर नगरपालिका के भाजपा चेयरमैन सौरभ सिंह ने कहा कि जिन कारणों को लेकर अविश्वास प्रस्ताव के रूप में दिखाया गया वह बेमाने हैं। राज्य सरकार ने 46 करोड़ रुपये फंड रोककर यहां अचलावस्था की स्थिति पैदा की है। रही बात अविश्वास प्रस्ताव की तो अभी इसमें लगभग 20 दिनों का समय है। अविश्वास पर चुनाव में क्या साबित होता है वह देखने वाली बात होगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

12 अगस्‍त को दुनिया की पहली कोरोना वैक्‍सीन होगी पंजीकृत

वायरस टीके के लिए रूस की जल्दबाजी ने पश्चिम में चिंताएं बढायीं मॉस्को : दुनियाभर में जहां कोरोना वायरस के मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हो आगे पढ़ें »

बीसीसीआई का दावा, यूएई में आईपीएल कराने को केंद्र सरकार की हरी झंडी

नयी दिल्ली : भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) को इस साल इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में कराने की मंजूरी मिल गयी है आगे पढ़ें »

ऊपर