टीटागढ़ में भाजपा समर्थकों पर हमले का आरोप तृणमूल पर

रेलवे की जमीन पर रहनेवाले परिवार को जबरन हटाने का कर रहे थे विरोध
तृणमूल ने कहा-बेवजह मामले को दिया गया है राजनीतिक रंग
टीटागढ़ : रेलवे की जमीन पर अस्थायी रूप से निवास कर रहे परिवार को हटाने की पुलिस की कार्रवाई से फैले विवाद ने टीटागढ़ में राजनीतिक रंग पकड़ लिया। यह घटना टीटागढ़ थाना अंतर्गत पालिका के 20 नंबर वार्ड 11 नंबर रेलगेट के गुडसेट रोड पर घटी। आरोप है कि वहां सालों से अस्थायी रूप से झोपड़ियां बनाकर रहने वाले कृष्णचंद्र व उसके परिवार के लोगों को हटने की नोटिस दी गयी थी मगर इसके बाद भी जब वे नहीं हटे तो बुधवार को स्थानीय पुलिस व रेलवे पुलिस ने वहां पहुंचकर कार्रवाई करनी चाही। आरोप है​ कि एक गरीब परिवार को जबरन बेघर किये जाने की इस स्थिति को देखते हुए भाजपा प्रार्थी डॉ. सी.एम. शुक्ला के मुख्य चुनाव एजेंट राजू साव अपने दलबल के साथ वहां पहुंचे और पीड़ित परिवार के साथ हो रहे अन्याय का विरोध किया। राजू साव जो कि बैरकपुर कोर्ट में वकील भी हैं, ने कहा कि जब वे जबरन घर तोड़ने को लेकर पुलिस कर्मियों के साथ बातचीत कर ही रहे थे तभी स्थानीय तृणमूल आश्रित समाज​विरोधी भोला साव ने पुलिस के सामने ही उन पर व उनके कर्मियों पर हमला बोल दिया। एक कार व मोटरसाइकिल में तोड़फोड़ कर उन्हें नष्ट कर डाला। कई भाजपा कर्मी इसमें घायल हो गये। उन्होंने कहा कि हमने इसकी शिकायत थाने में दर्ज करवायी है। साथ ही भाजपा की ओर से पथावरोध कर प्रदर्शन किया गया। उन्होंने आरोप लगाया कि दो हत्याओं के मामले में अभियुक्त भोला साव इलाके में आतंक फैला रहा है और पुलिस कार्रवाई करने के बजाय उसे संरक्षण दे रही है। दूसरी ओर घटना को लेकर स्थानीय तृणमूल कर्मी भोला साव ने कहा कि भाजपाइयों के आरोप बेबुनियादी हैं, बल्कि वे इन गरीबों की समस्याओं को लेकर राजनीति करने आये थे। जब स्थानीय लोगों ने उन्हें वहां से चले जाने को कहा तो वे मारपीट करने लगे। यहां तृणमूल के साथ कोई विवाद हुआ ही नहीं। इस घटना को केंद्र कर फैली उत्तेजना की खबर पाकर वहां पहुंचे पालिका के पूर्व प्रशासक प्रशांत चौधरी ने आरोप लगाया कि चुनाव के पहले बेवजह ही भाजपा इलाके को अशांत करने के लिए व वोटरों को डराने के लिए अकारण ही विवाद करते फिर रही है। यहां जबरन घटना को राजनीतिक रंग देने की कोशिश की गयी है जबकि उस परिवार को मिली नोटिस पर पहले ही हमने बातचीत की थी और कार्रवाई को रुकवा दिया था। किसी भी परिवार को अचानक बेघर नहीं किया जा सकता है और तृणमूल ऐसा नहीं होने देगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सीएम के पैर का प्लास्टर और 7 दिन रखने की डॉक्टरों ने दी सलाह

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : नंदीग्राम में सीएम ममता बनर्जी के पैर में लगी चोट के बाद से उनके पैर में प्लास्टर किया हुआ है। सीएम उसी आगे पढ़ें »

ये सेक्सी बातें, जो बढ़ा देंगी यौन संबंध बनाने की इच्छा

कोलकाताः अगर आप अपने पार्टनर से सेक्स की बातें करते हैं तो वह उन बातों से उत्तेजित हो जाते हैं। इसी के साथ ही आपको आगे पढ़ें »

ऊपर