खिलौना व्यापारियों की मांग, इंपोर्टेड टॉयज पर लगी पाबंदिया हटाये सरकार

जीएसटी घटाने और दुकानें खोलने का समय बढ़ाने की भी की मांग
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कोविड-19 की दूसरी लहर में खिलौना निर्माताओं एवं विक्रेताओं पर दोहरी मार पड़ी है, पूर्व में ही बीआईएस रेगुलेशन लगने से इंपोर्टेड टॉयज पूरी तरह से आने बंद हो गए हैं जिस कारण भारतीय खिलौना बाजार में एक और एकमात्र साधन भारतीय खिलौना निर्माता ही बचे हैं। कोविड-19 की कठिन परीक्षा में खिलौना खुदरा विक्रेताओं को भी कई तरह की परेशानियां झेलनी पड़ रही है। अक्षय बिंजराजका, वाइस प्रेसिडेंट ऑफ ऑल इंडिया टॉय एंड बेबी प्रोडक्ट एसोसिएशन ने इस विषय में जानकारी देते हुए बताया कि कोविड-19 की दूसरी लहर में इनडोर आइटम की सेल भी कुछ खास नहीं रही जिसकी वजह से जो व्यापार पिछली लहर में हुआ था, उतना भी इस बार नहीं हो पाया | खिलौना ट्रेडर्स के सामने कई परेशानियां हैं जैसे बीआईएस रूल की वजह से इंपोर्टेड टॉयज नहीं आना, कोविड-19 की वजह से खिलौने की मांग कमजोर पड़ना, ऑनलाइन बिजनेस की चुनौतियां, भारतीय मैन्युफैक्चरर की प्रोडक्शन कैपेसिटी | खिलौना व्यापारियों को सरकार से काफी आशा है और इस आशा के तहत वह चाहते हैं कि भारत सरकार उन्हें वित्तीय मदद के साथ-साथ खिलौने पर जीएसटी को घटाएं एवं कोविड-19 काल में इंपोर्टेड टॉयज पर लगी पाबंदियों को अगले 2 साल के लिए वापस ले जिससे बाजार में एक सकारात्मक संदेश जाए और बाजार फिर से अपने पैरों पर खड़ा हो सके | हम पश्चिम बंगाल सरकार से अनुरोध करते हैं कि वह जल्द से जल्द टॉय क्लस्टर के लिए जमीन एवं अन्य सुविधाओं की जरूरतों को पूरा करें जिसके तहत क्लस्टर के लिए जमीन कोलकाता शहर के पास ही दी जाए जिससे निर्माताओं एवं विक्रेताओं के बीच में संबंध आसान बना रहे। खिलौना व्यापार अपनी इन समस्याओं के कारण औंधे मुंह गिर चुका है जिसकी वजह से जो लोग इस व्यवसाय से जुड़े हुए हैं, उनकी रोजी-रोटी पर आफत आ गई है | राज्य सरकार से यह अनुरोध है कि अपने अनलॉक गाइडलाइंस में खिलौना व्यापारियों का ध्यान रखें एवं दुकानों को सोशल डिस्टेंसिंग एवं कोविड-19 नियमों के साथ खोलने की अवधि को सुबह 8 बजे से शाम 6 बजे तक करें। बिंजराजका ने इस बात पर भी जोर दिया कि अगर भारत को टॉयज व्यापार में एक्सपोर्टर की भूमिका में आना है तो केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार को इस पर खास ध्यान देना होगा जिसके तहत नियमों को आसान, सिंगल विंडो क्लीयरेंस, मैन्युफैक्चरिंग क्लस्टर, अच्छे दरों पर बैंक फंडिंग एवं रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेंटर करने और बनाने पड़ेंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बड़ी खबरः राज्य में कोविड के बीच बच्चों में डेंगू के साथ स्क्रब टाइफस

एक्सपर्ट ने जागरूक रहने की दी सलाह सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः कोविड काल के बीच अचानक बच्चों में डेंगू के साथ स्क्रब टाइफस के मामले सामने आए हैं। आगे पढ़ें »

ऊपर