आज विदा लेंगी ‘मां दुर्गा’ ‘सिंदूर खेला’ का होगा विशेष रिवाज

कोलकाता :  आज मां दुर्गा का विदाई होगा, जिसकी तैयारी धूमधाम से की जा रही है। विजया दशमी  के दिन प्रतिमा विसर्जन की तैयारियां शुरू हो जाती है। कोलकाता में आयोजित कमोबेश चार हजार दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन शुक्रवार को शुरू हो जाएगा लेकिन इसी दिन राज्य में ‘सिंदूर खेला’  का एक अलग रिवाज है जो राज्य की दुर्गा पूजा को बाकी देश से खास बनाता है। दरअसल सैकड़ों सालों से राज्य के जमींदार घराने और राजवाड़े में मां दुर्गा की पूजा धूमधाम से होती रही है एवं सालों पहले इस ‘सिंदूर खेला’ की शुरुआत हो गई थी।हाईकोर्ट ने भी कोरोना महामारी के मद्देनजर सीमित संख्या में पूजा पंडालों में सिंदूर खेला की इजाजत दी है।कलकत्ता हाईकोर्ट ने भी ‘सिंदूर खेला’ के लिए बड़े पूजा पंडालों में 60 और छोटे पंडालों में 15 लोगों के प्रवेश की अनुमति दी है। मां दुर्गा के चरणों में लगाने के बाद एक-दूसरे को लगाती हैं सिंदूर‘सिंदूर खेला’ में पूजा मंडप और आसपास की महिलाओं समेत जिन घरों में मां की प्रतिमा स्थापित की गई है वहां बड़ी संख्या में सुहागन दैनिक तौर पर लगाई जाने वाली सिंदूर को लेकर मां के चरणों में लगाती हैं। उसके बाद उसी सिंदूर से अन्य सुहागन महिलाओं की मांग भी भरी जाती है। साथ ही उसे अबीर की तरह गालों पर भी लगाया जाता है। महिलाएं इसके साथ ही नाचती गाती हैं और झूमती भी हैं। दशमी के दिन राजधानी कोलकाता समेत राज्यभर में सिंदूर खेला की धूम मचेगी। इसके लिए महिलाओं ने पहले से ही तैयारी शुरू कर दी है। पूरे उत्साह के साथ ‘सिंदूर खेला’ का रिवाज का होता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

जवाद चक्रवात : हावड़ा प्रशासन अलर्ट पर, जायजा लेने पहुंचे मंत्री

हावड़ा फेरी परिसेवा अस्थायी तौर पर बंद, कई ट्रेनें रद्द हावड़ा : जवाद को लेकर राज्य समेत हावड़ा में बारिश शुरू हो चुकी है। रविवार की आगे पढ़ें »

ऊपर