आज सीएम कर सकती हैं हवाई सर्वेक्षण

यह मैन मेड बाढ़ है, डीवीसी ने किया अपराध – ममता 
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : बंगाल के दक्षिण के जिले भारी बाढ़ की चपेट में हैं। हालत इतनी बदतर है कि सेना को मोर्चा संभालना पड़ा है। बाढ़ के लिए बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने एक बार फिर से डीवीसी को जिम्मेदार ठहराया है। ममता ने कहा कि बिना बताये पानी छोड़ना अपराध है, पाप है। यह मैन मेड बाढ़ है। मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को राज्य के दक्षिणी हिस्से में वर्तमान मानव निर्मित बाढ़ के लिए झारखंड और डीवीसी को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने कहा कि यह पड़ोसी राज्य में बांधों और बैरेजों से अनियोजित और बढ़े हुए पानी के निर्वहन के कारण हुआ है। बिना जानकारी के डीवीसी ने पानी छाेड़ा जिसके कारण बंगाल में बाढ़ के हालात उत्पन्न हो गये। सूत्रों के मुताबिक आज शनिवार को सीएम बाढ़ प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण कर सकती हैं। शुक्रवार को एक टीवी चैनल में टेलिफोन में सीएम ने कहा कि जानकारी दिये बिना बैरेज से पानी काे छोड़ना अपराध है। पिछली बार भी कहा था कि बिना जानकारी के पानी नहीं छोड़े, अब बोलते-बोलते हताश हो जा रहे हैं। सीएम ने कहा कि अगर रात को 3 बजे पानी छोड़ देंगे तो लोग नींद की हालत में ही बह जायेंगे। ऐसा करना पाप है, अपराध है। अगर वही पहले से जानकारी दे दी जाती तो हमलोग लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचा सकते हैं। सीएम ने कहा कि झारखंड की परेशानी बंगाल क्यों अपने माथे पर लेगा। सीएम ने कहा कि राज्य सरकार बाढ़ वाले जिलों पर पूरी नजर बनाये हुए हैं।
आसनसोल में कभी इतनी बारिश नहीं हुई
ममता ने कहा कि आसनसोल में 345 एमएम बारिश हुई। इतनी बारिश कभी नहीं हुई थी। झारखंड में इतनी अधिक बारिश हुई और वहां से रात 3 बजे आसनसोल में पानी छोड़ दिया गया। सीएम ने कहा कि झारखंड, बिहार में वर्षा होने से हमलोगों को समस्याएं होती हैं। ये लोग ड्रेजिन नहीं करते हैं। अगर बारिश के कारण बाढ़ होती तो समझ में आता लेकिन यह तो मैन मेड बाढ़ है। आज बांकुड़ा, हावड़ा, हुगली, आसनसोल सब डूबे हुए हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

मांग पर अड़े मेडिकल कॉलेज व अस्पताल के छात्र

कोलकाता : आरजी कर मेडिकल के प्रिंसिपल के इस्तीफे की मांग पर अड़े मेडिकल स्टूडेंट्स ने निकाली रैली। इस मामले पर स्वास्थ्य भवन के अधिकारियों आगे पढ़ें »

ऊपर