टीएमसी को बड़ा झटका, परिवहन मंत्री शुभेंदु अधिकारी ने दिया पद से इस्तीफा

कोलकाता : पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव अगले साल होने वाले हैं। इससे पहले सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) को एक बड़ा झटका लगा है। पार्टी के वरिष्ठ नेता और परिवहन मंत्री शुभेंदु अधिकारी ने शुक्रवार को अपने परिवहन मंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया है। ऐसी अटकले हैं कि वे भाजपा में शामिल हो सकते हैं। हालांकि इस संदर्भ में अब तक कोई स्पष्ट जानकारी नहीं मिली है।

बता दें कि टीएमसी में शुभेंदु को लेकर पहले से ही काफी कोलाहल था। तृणमूल से अपने हाथ खींचने की उनकी सुगबुगाहट कुछ दिनों से साफ नजर आ रही थी। हालांकि उन्होंने फिलहाल अपने पद से इस्तीफा दिया है, पार्टी से नहीं।

एचआरबीसी पद से भी इस्तीफा दिया
इससे पहले उन्होंने सरकारी निगम के पद से इस्तीफा दिया था। कई महीने से विद्रोही रुख दिखा रहे शुभेंदु ने खुद को मनाने के लिए की जा रही कोशिशों के बीच अचानक हुगली रिवर ब्रिज कमिश्नरेट (एचआरबीसी) के चेयरमैन पद से इस्तीफा दे दिया था। पार्टी ने भी उनके इस्तीफे को स्वीकार कर लिया था।

दरअसल मुख्यमंत्री और टीएमसी अध्यक्ष ममता बनर्जी ने बुधवार को बांकुरा में आयोजित एक रैली में खुद को राज्य के सभी जिलों का इकलौता पार्टी ऑब्जर्वर घोषित किया था। शुभेंदु के करीबी सूत्रों के मुताबिक, कई जिलों में ऑब्जर्वर की भी जिम्मेदारी संभाल रहे अधिकारी को ममता की घोषणा पसंद नहीं आई है और उन्होंने इस्तीफा देकर अपना मौन विरोध प्रकट किया है।

35 से 40 सीटों पर है शुभेंदु अधिकारी का प्रभाव
बता दें कि शुभेंदु अपने गृह जिले पूर्वी मिदनापुर के अलावा पश्चिमी मिदनापुर, बांकुरा, पुरुलिया, झारग्राम और बीरभूम जिले के कुछ भागों में करीब 35 से 40 विधानसभा सीटों पर अपना प्रभाव रखते हैं। ऐसे में अगले साल अप्रैल-मई में संभावित विधानसभा चुनावों के मद्देनजर टीएमसी पिछले रास्ते से उन्हें मनाने की कोशिश भी कर रही है। इसकी जिम्मेदारी वरिष्ठ सांसद सुदीप बंदोपध्याय और सांसद सौगत राय को सौंपी गई है, जो शुभेंदु के साथ दो बार वार्ता कर चुके हैं। लेकिन अभी तक वार्ता किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ब्रेकिंग : अचानक बिगड़ी अरूप राय की तबीयत

हावड़ा : रविवार की सुबह राज्य के मंत्री अरूप राय की तबीयत अचानक ख़राब हो गई जिसके बाद उन्हें कोलकाता के वुडलैंड्स अस्पताल में भर्ती आगे पढ़ें »

पक्के हिंदू थे मेरे पिता सुभाष चंद्र बोस

जर्मनी में रहने वाली बेटी ने कहा- सभी धर्मों का करते थे सम्मान कोलकाता : महान स्वतंत्रता सेनानी और आजाद हिंद फौज के संस्थापक नेताजी सुभाष आगे पढ़ें »

ऊपर