बड़ी खबरः अब दीघा जाने के लिए नहीं…

खड़गपुर/दीघा : कोविड नियमों की सख्ती से पर्यटन उद्योग को नुकसान हो रहा है जिसे देखते हुए जिला प्रशासन ने पर्यटकों के लिए प्रतिबंधों में ढील दी है। पूर्व मिदनापुर जिला प्रशासन की ओर से नया निर्देश जारी किया गया है कि जिन्होंने वैक्सीन की पहली डोज ले ली है, वे अब दीघा जा सकेंगे। जिला प्रशासन के फैसले से लोगों के साथ – साथ दीघा के होटल मालिकों व अन्य व्यापारियों को भी थोड़ी राहत मिली है। कोरोना की तीसरी लहर को रोकने के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक के बाद एक कई फैसले लिए। हालांकि, राज्य धीरे – धीरे अपने लय में लौट रहा है। पर्यटन केंद्रों के दरवाजे आम जनता के लिए खोल दिए गए हैं लेकिन नए संक्रमण को रोकने के लिए कई नियमों को अनिवार्य किया गया है। दीघा, तारापीठ, शांतिनिकेतन, दार्जिलिंग आदि इलाकों के लिये कई नियम बनाये गये। इसके तहत कोरोना की दोनों वैक्सीन लेने वालों को ही उन पर्यटन केंद्रों में प्रवेश की अनुमति देने का फैसला किया गया और यही वजह है कि कई लोग अपने ट्रैवल प्लान कैंसल कर रहे हैं क्योंकि अभी तक कई लोगों ने कोरोना की दो डोज नहीं ली है। जिन लोगों ने पहली डोज ली है, उन्हें दूसरी डोज के लिये कम से कम 84 दिनों का इंतजार करना पड़ेगा। नतीजतन, उन्हें आरटीपीसीआर परीक्षण से गुजरना पड़ता है जिसमें बहुत खर्च होता है और इसलिए कई लोग दौरे को रद्द कर रहे हैं। इस कारण दीघा के होटल व्यवसाय को भी काफी नुकसान हो रहा है। इसके अलावा पर्यटन उद्योग से जुड़ा अन्य व्यवसाय भी मार खा रहा है इसलिए सभी पहलुओं पर विचार करते हुए राज्य सरकार की ओर से जिलाधिकारियों को प्रतिबंधों में थोड़ी ढील देने का निर्देश दिया। इस कारण पूर्व मिदनापुर जिला प्रशासन ने फैसला किया कि कोरोना वैक्सीन की एक डोज लेने वाले पर्यटक दीघा में होटल बुक करने में सक्षम होंगे। जिला प्रशासन के इस फैसले के बाद दीघा के होटल मालिक व अन्य व्यापारियों में तो खुशी है ही, साथ ही अब पर्यटकों को भी दीघा घूमने का आंनद उठाने का मौका मिलेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सिलीगुड़ी में कोरोना के 172 गुना अधिक संक्रामक डेल्टा वेरिएंट ने दी दस्तक

डेल्टा और यूके वेरिएंट के केस सिलीगुड़ी में पाया जाना चिंताजनक लेकिन लोगों की जान जाने का खतरा अपेक्षाकृत कम है: डॉ. संदीप सेन गुप्ता, आगे पढ़ें »

ऊपर