गंगासागर मेले में इस बार ई-दर्शन और सागर भ्रमण

सीसीटीवी की निगरानी में रहेगा पूरा मेला क्षेत्र
मेले के दौरान तीर्थयात्रियों को 5 लाख की बीमा
दक्षिण 24 परगना : गंगासागर मेला 2022 को केंद्र कर इस बार ई-दर्शन और सागर भ्रमण की अनोखी पहल की गई है। इसके लिए दिव्यागंजन मेला का आनंद ले सकते है। दक्षिण 24 परगना जिला के शासक डॉ. पी उल्गानाथन ने प्रेस कांफ्रेंस में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि मेला परिसर के पांच मार्गों पर 500 सीसीटीवी और 10 ड्रोन की मदद से सुरक्षा पर नजर रखी जाएगी। सुरक्षा की हर पल की जानकारी ऑनलाइन राज्य सरकार के मुख्यालय नवान्न में भेजी जाएगी। गंगासागर मेला की तैयारी करीब 6 महीना पहले से की जा रही थी। मेला की करीब 90 फीसदी तैयारियां पूरी हो चुकी है। मेला क्षेत्र में 13 बफर जोन बनाये गए हैं। भीड़ को नियंत्र‌ित करने के लिए मेला परिसर के करीब 51 कि.मी क्षेत्र की बैरिकेडिंग की गई है। जिसमें कुछ स्थायी है और कुछ अस्थायी है। 8-17 जनवरी के बीच किसी भी तीर्थयात्रियों की दुघर्टना में मृत्यु होने पर परिजनों का 5 लाख रुपए दिए जाएंगे। फायर व्यवस्था पुख्ता की गई है। कोविड को लेकर विशेष व्यवस्था की गई है। विभ‌िन्न प्रवेश मार्गों पर तीर्थयात्रियों की ऑटोमेटिक थर्मल स्क्रिनिंग की व्यवस्था है। डीएम ने कहा कि दुर्गा पूजा के बाद से सागर में काफी संख्या में तीर्थयात्रियों की भीड़ उमड़ रही है। कुंभ मेला नहीं होने पर ज्यादा भीड़ होगी। 35 लाख तीर्थयात्री से ज्यादा होने की उम्मीद जतायी है। मेला में आठ भाषाओं में माइकिंग कर के तीर्थयात्रियों को कोविड के बारे में जागरूक किया जाएगा। तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए एक एयर एम्बुलेंस और तीन वाटर एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई है। कोविड अस्पताल में ऑक्सीजन की व्यवस्था रहेगी। नदी मार्ग में पुलिस बल तैनात रहेंगे। इस बार गंगासागर मेला को डिजिटली करोड़ाें लोगों तक पहुंचाने की बात कहीं। इस मौके पर डीएम ने अन्य अफसरों के साथ ई-स्नान अब घर बैठे पुण्य स्नान का उद्घाटन किए। उन्होंने कहा कि इसकी सुविधा पहली बार विश्वस्तर पर की गई है। ह्वाट्सऐप नम्बर 703961108 पर हाय लिख कर तीर्थयात्री ई-स्नान के लिए बुकिंग करा कर गंगाजल, गंगा मिट्टी और पूजन सामग्री और प्रसाद घर बैठे मंगवा सकते हैं। गंगासागर मेला का पूरा अनुभव का लाभ उठा सकते हैं।
इस मौके पर मंत्री बंकिम चंद्र हाजरा, मेला अधिकारी एडीएम श‌ियाद एन, जिला परिषद की सभाधिपति शमीमा शेख, एडीएम शंख सांतरा व अन्य अफसर मौजूद थे।
गंगासागर मेला को आकर्षण बनाने के लिए प्रशासन कुछ अलग पहल की हैं, जो निम्नलिखित है :
ध्यान केंद्र : जिला प्रशासन ने ध्यान केंद्र के तहत तीर्थयात्रियों को आध्यात्मिक अनुभुति दिलाने का भरपूर प्रयास कर रही है। ध्यान केंद्र दो स्लॉट में उपलब्ध रहेगा। समय सुबह 6-10 बजे तक और शाम को 4-8 बजे तक चलेगें। यह 11-15 जनवरी तक चलेगा। यहां पर मेडिडेशन कर सकते हैं।
ई- पूजा, घर बैठे सागर पूजा : प्रशासन की ओर से तीर्थयात्रियों की सुविधा की लिए ई पूजा की व्यवस्था की है। इसकी बुकिंग बेवसाइट के जरिए कर सकते है। 5 जनवरी से शुरू होगी। इसके लिए 50 रुपए लिए जाएंगे। मंदिर में पूजा अर्चना तीर्थयात्री के घर पर ई पूजा पैक प्रसाद फूल भेजने की व्यवस्था की है।
सागर भ्रमण : सागर भ्रमण के तहत जिला प्रशासन ने एनजीओ की मदद से दिव्यांगजनों बुजुर्गों और जरूरतमंदो और होम में रहने वाले बच्चे और महिलाओं के लिए नि:शुल्क गंगासागर मेला घुमने की व्यवस्था की गई है। इसके लिए ऐसे लोगों को ऑनलाइन और ऑफलाइन रजिस्ट्रर करना पड़ेगा। यह सेवा नि:शुल्क होगा।
ई-दर्शन आउट डोर डिजिटल मीड‌िया : गंगासागर मेला को लाइव विश्व के हर कोने के तीर्थयात्रियों तक पहुचाने डिजिटल मीडिया पर प्रशासन खास तरह से जोर दे रही है। इसके तहत तीर्थयात्री घर बैठे www.gangasagar.in पर जाकर लाइव पूजा को देख सकते हैं। इसके‌ अलावा अन्य सोशल मीडिया पर लाइव कपिलमुनि मंदिर की पूजा अर्चना को भी दिखाए जाएंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सामाजिक सम्मान नष्ट हो रहा है लेकिन धैर्य रखें : फिरहाद

कर्मियों को मेयर की सलाह, विपक्ष को जवाब सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोलकाता नगर निगम के मेयर फिरहाद हकीम ने अपने पार्टी के नेताओं की गिरफ्तारी पर आगे पढ़ें »

ऊपर