भवानीपुर में 3 वकीलों के बीच हाेगी ‘कानूनी’ लड़ाई

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : अदालत की चौहद्दी में एक पक्ष के वकील के साथ विपक्ष के वकील का ​विवाद होना स्वाभाविक है, लेकिन चुनाव के मैदान में क्या आपने कभी ऐसा देखा है ? इस बार भवानीपुर उपचुनाव के मैदान में ऐसी ही तस्वीर सामने आयेगी। कारण है तृणमूल, माकपा एवं भाजपा, तीनों ही पार्टियों के भवानीपुर के उम्मीदवार वकील हैं। शुक्रवार को अलीपुर सर्वे बिल्डिंग से ममता बनर्जी ने नामांकन दाखिल किया जिसमें देखा गया है कि वर्ष 1982 में कलकत्ता विश्वविद्यालय के अंतर्गत जोगेश चंद्र चौधरी कॉलेज से ममता बनर्जी ने कानून की डिग्री ली थी। कई बार उन्होंने खुद भी ये बात कही है। वहीं ममता बनर्जी के सामने भाजपा उम्मीदवार प्रियंका टिबड़ेवाल भी पेशे से वकील हैं। तृणमूल के ​खिलाफ हाई कोर्ट में जो भी मामले हुए, उनमें से अधिकतर क्षेत्र में प्रियंका टिबड़ेवाल को सवाल करते हुए देखा गया है। भाजपा युवा मोर्चा की नेता प्रियंका टिबड़ेवाल को चुनाव बाद हिंसा मामले में एडवोकेट के तौर पर कोलकाता हाई कोर्ट में देखा गया था। भाजपा के लीगल सेल में भी वह हैं। गत विधानसभा चुनाव में उन्होंने इंटाली से प्रतिद्वंद्विता की थी, लेकिन तृणमूल से हार गयी थीं। इधर, भवानीपुर में कांग्रेस उम्मीदवार नहीं देगी, ये जानने के बाद वहां से वाममोर्चा ने उम्मीदवार की घोषणा की। भवानीपुर के माकपा उम्मीदवार श्रीजीव विश्वास भी पेशे से वकील हैं। ऐसे में इस बार भवानीपुर की त्रिमुखी लड़ाई में इस बार 3 वकील आमने – सामने होंगे। कोर्ट में वकीलों के बीच की लड़ाई क्या चुनावी मैदान का तापमान भी बढ़ायेगी ? राजनीतिक पर्यवेक्षकों का कहना है कि जिस तरह वकील अपने सवालों से विचारकों का मन जीतने की कोशिश करते हैं, उसी प्रकार भवानीपुर के 3 प्रतिद्वंद्वी भी राजनीतिक सवालों के माध्यम से लोगों का मन जीतने की कोशिश करेंगे। अब भवानीपुर के विचारक व निर्वाचकमण्डली का फैसला किस काले कोर्ट वाले के चेहरे पर मुस्कान बिखेरेगी, ये समय ही बतायेगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

भाद्रपद पूर्णिमा आजः चंद्रमा और मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिये…

कोलकाताः हिंदू धर्म में पूर्णिमा तिथि का विशेष महत्व है। इस दिन चंद्रमा अपनी पूर्ण कला में होता है तथा सर्वाधिक फल प्रदान करने वाला आगे पढ़ें »

ऊपर