‘बुर्ज खलीफ’ ने बढ़ाई परेशानी, छूट रहे है पुलिस के पसीने….

कोलकाता : कोलकाता का सबसे जगमगाता पंडाल अब कोलकाता के लोगों के लिए मुसीबत बनती दिख रही है। जी हां आपने सही सुना। जो ‘बुर्ज खलीफ’ अपने बेहतरीन थीम के कारण चर्चा में है वह अब मुसीबत बनते नजर आ रही है। दरअसल इस पूजा पंडाल में लोगों की इतनी भीड़ हो रही है कि इसे संभालना मुश्किल हो जा रहा है जिसके कारण गत रात यानी सप्तमी की रात को इस पंडाल में प्रवेश को बंद कर दिया गया था। मालूम हो कि इससे पहले पायलटों की शिकायत पर बुर्ज खलीफा के लेजर शाे को भी बंद किया गया है।
आज और भी अधिक तैनात होंगे पुलिस फोर्स
श्रीभूमि के पूजा पंडाल में सप्तमी को भीड़ के कारण प्रवेश को बंद कर दिया गया था। बेहिसाब भीड़ के कारण प्रशासन को यह निर्णय लेना पड़ा। मालूम हो कि विधाननगर की 75 प्रतिशत पुलिस फोर्स यहीं तैनात है। आज और भी फोर्स बढ़ाया जा सकता है। ताकि भीड़ पर काबू पाया जा सके।
आज प्रशासन ले सकता है बड़ा फैसला
अगर आज भी इस पंडाल में अधिक भीड़ हुई और पुलिस फोर्स इसे ना संभाल सकी तो प्र्रशासन इसपर बड़ा फैसला ले सकती सकती है।
बंद किया गया बुर्ज खलीफा के लेजर शो
राज्य की सबसे प्रसिद्ध पूजा में से एक श्री भूमि की बहुचर्चित बुर्ज खलीफा पूजा मंडप में लेजर शो को तत्काल प्रभाव से बंद करने का निर्णय लिया गया है। इसके खिलाफ पायलटों ने शिकायत की थी कि विमानों की आवाजाही पर लेजर लाइट शो का प्रभाव पड़ रहा है। सूत्रों की मानें तो रात के वक्त यह लेजर लाइट का शो होता है। ऐसे में इस पूजा पंडाल को देखने के लिए काफी दूर-दूर से लोग आ रहे हैं। इस दौरान 3 से 4 पायलटों ने इस बारे में एटीसी से शिकायत की। इसके बाद एटीसी की टीम ने स्थानीय प्रशासन से इसे बंद करने को कहा। बताया गया है कि सोमवार की रात से इसे बंद कर दिया गया है। एयरपोर्ट अधिकारी के मुताबिक एयरपोर्ट पर लैंडिंग के वक्त विमान आसमान में चक्कर भी काटते हैं। कई बार गो अराउंड भी करना पड़ता है। इस स्थिति में पायलटों को अगर रन वे की लाइट के अलावा कुछ और दिखाई दें तो काफी दिक्कत होती है। यही कारण है कि एयरपोर्ट के आस पास के इलाके में लेजर लाइट व ड्रोन आदि के लिए पाबंदी लगायी गयी है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सिंदूर खेला के बाद नम आंखों से विदा किया गया मां दुर्गा को

एकादशी के दिन भी कई पूजा पण्डालों के पास उमड़ी भीड़ कोलकाता : ‘बोलाे दुर्गा माई की...जय, आसछे बोछोर आबार होबे’ के नारों से विभिन्न विसर्जन आगे पढ़ें »

ऊपर