मां के शव को कमरे में बंद कर भाग निकला युवक

फिर खुद ही घर पहुंचकर खोला कमरे का ताला
मां के भूत को लेकर डर गया था वह युवक
नदियाः बुजुर्ग मां की मृत्यु से डरकर बेटा सुमन आचार्य शव को कमरा में बंदकर बिना किसी को कुछ बताये भाग निकला। परिजनों के यहां ठहरने पर भी किसी को भी मां के मृत्यु की जानकारी उसने नहीं दी। आखिरकर बुधवार को वह खुद घर लौटा। इधर उसके मकान से तेज बदबू पाकर पड़ोसियों ने पुलिस को खबर दी थी। उस बीच सुमन ने अपने घर पहुंच कर मां के कमरे का ताला खोला। पुलिस ने आवश्यक कार्रवाई कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। मिली जानकारी के अनुसार कृष्णानगर कोतवाली थाना के शुकूर रोड के बाशिंदा सुमन के पिता सुशांत आचार्य की मृत्यु कुछ साल पहले गंभीर बिमारी से हो गई। पति की मौत के बाद उनकी पत्नी झर्ना आचार्य (60) अपने एक मात्र बेटे के साथ रहती थी। उन्हें खून के संक्रमण की बीमारी है। सुमन भी मंदबुद्धि किस्म का युवक है हालांकि अपनी मां के इलाज व भरण पोषण का पूरा ख्याल रखता था। उस परिवार के पड़ोस में रहने वाले सौभिक सरकार ने आरोप लगाया कि मां की मौत के बाद सुमन भूत के डर से घर में ताला बंदकर भाग निकला था। उसके घर से निकल रही तेज बदबू से लोग परेशान थे। इसदिन पुलिस को खबर देकर मुहल्ले के लोग समस्या को लेकर चर्चा कर ही रहे थे कि सुमन ने घर पहुंचकर ताला खोला। सुमन ने बताया कि सोमवार की दोपहर एक बजे उसकी मां गंभीर रूप से अस्वस्थ्य हो गई थी। आंख नहीं खोल रही थी और इशारों में बात कर रही थी। कुछ देर बाद उन्होंने हिलना-डूलना भी बंद कर दिया। यह सब देखकर वह डर गया और ताला बंदकर अपने फूआ के घर चला गया। फूआ के घर के बाद चाचा के घर गया लेकिन किसी को कुछ भी नहीं बताया। उसने स्वीकार किया कि उसने जो कुछ भी किया है, डर की वजह से किया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

भाटपाड़ा में भाजपा सांसद के घर पहुंचे एनआईए अधिकारी

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : बैरकपुर के सांसद सह प्रदेश भाजपा के उपाध्यक्ष अर्जुन सिंह के भाटपाड़ा स्थित निवास स्थल पर बमबारी मामले में जांच के लिए आगे पढ़ें »

ऊपर