चटर्जीहाट में पति व बहन के शव के साथ दो दिनों तक रह रही थी महिला

ओलाबीबीतल्ला लेन में रॉबिनसन स्ट्रीट घटना की छाया
पड़ोसियों ने परिवार को कोविड होने की जतायी आशंका
महिला हावड़ा अस्पताल में इलाजरत
हावड़ा : साल 2015 में रॉबिनसन स्ट्रीट की जैसी घटना हावड़ा के चटर्जीहाट इलाके में घटी। जहां पर पिछले दो दिनों से एक महिला अपने पति व बहन के शवों के साथ रह रही थी। इसके बाद जब घर से जोरदार दुर्गंध आने लगी तो आसपास के लोगों ने इसकी जानकारी चटर्जीहाट थाने को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने दोनों के शवों को निकालकर पोस्टपार्टम के लिए भेजा वहीं महिला को हावड़ा अस्पताल में भर्ती किया गया है। मृतकों के नाम निशिथरंजन मंडल (75) एवं अनिता घोष उर्फ उमा (60) है। ये लोग चटर्जीहाट थानांतर्गत 21/3 ओलाबीबीतल्ला लेन इलाके में मौजूद एक तीन मं​जिला इमारत में रहते थे। परंतु इनका कोई सामाजिक सरोकर नहीं था। इसके कारण वे किसी के सम्पर्क नहीं थे। गत दो दिनों से जब निशिथ सामान लेने के लिए बाहर नहीं निकल रहे थे। तभी आसपास के लोगों को शक हुआ और उन लोगों ने इसकी जानकारी चटर्जीहाट थाने को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने घर का दरवाजा तोड़कर दोनों जीजा साली के शव को बाहर निकला। इसके साथ ही निशिथ की पत्नी पापड़ी मंडल काे इलाज के लिए भेज दिया। इस मामले में चटर्जीहाट थाना की ओर से कहा गया कि पापड़ी व दोनों मृतक सभी अपने-अपने कमरे थे। बाद में हावड़ा निगम की मदद से शवों को बरामद किया गया। वहीं पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है।
आसपास के लोगों से नहीं थी बातचीत
इलाके के रहनेवाले शिवकुमार भोवाल ने बताया कि निशिथ और उसका परिवार पिछले कुछ सालों से आसपास के लोगों से ज्यादा बातचीत नहीं करते थे। वे केवल दुकानदारों से सामान खरीदने के लिए ही निकलते थे। इसके अलावा वे सामाजिक रूप से भी एक्टिव नहीं थे। साथ ही बताया जाता है कि 2020 से हर जगह कोविड होने के कारण वे पिछले कई दिनों से मानसिक रूप से भी परेशान थे। इसलिए कुछ दिनों से बाहर भी नहीं निकल रहे थे। इस दौरान इलाके के लोगों को भी कोई शक नहीं हुआ लेकिन जब दुर्गंध काफी तेज हो गयी तो लोगों ने पुलिस को जानकारी दी।
हावड़ा निगम में टैक्स डिपार्टमेंट में हुआ करते निशिथ
इलाके के लोगों के अनुसार निशिथ पहले हावड़ा नगर निगम के टैक्स डिपार्टमेंट में काम करते थे और उनकी पत्नी पापड़ी मंडल हाउस वाइफ थी। उनकी साली उमा भी कई दिनों से उनके साथ ही रहती थी। इसके अलावा उनका एक बेटा भी है जो कि कई सालों से मेंटल असाइलम में रहता है, जिसका कई सालों से इलाज चल रहा है।
कोविड होने का भी था शक
चटर्जीहाट के जिस तीन मंजिला इमारत में निशिथ का परिवार रहता था। उनके अलावा और एक परिवार रहता था लेकिन वे सालों पहले ही यहां से छोड़कर चले गये थे। इसके अलावा इमारत में मौजूद डाक भी कई दिनों से बंद है।ऐसे में किसी से सम्पर्क नहीं होने के कारण किसी को यह भी जानकारी नहीं थी कि उनकी तबीयत खराब है कि नहीं। हालांकि पड़ोसियों को कोविड होने का शक है। इसके कारण उनकी तबीयत खराब हो गयी और उनकी मौत हो गयी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

फादर्स डे पर अपने पिता को ऐसे बतायें मन की बात!

कोलकाताः  माता-पिता हमारे जन्म का आधार होते हैं लिहाजा किसी व्यक्ति के लिए मां-पिता की अहमियत जीवन में सबसे बड़ी होती है। कोई भी संतान पूरी आगे पढ़ें »

पंजाब में ग्रीन फंगस का पहला केस

कोविड-19 से उबर चुके शख्‍स में दिखे लक्षण चंडीगढ़ : पंजाब में ग्रीन फंगस का पहला मामला सामने आया है। कोविड-19 से उबर चुके एक शख्‍स आगे पढ़ें »

ऊपर