…ऊंचो चोड्यो चोखण नो जल, जमुना रो नीर मंगावो जी राज जैसे लोक गीतों से गूंजेगा राज्य

आज होगी गणगौर की पूजा, बड़ाबाजार की 9 मंडलियाें में से 5 मंडलियां ही जायेंगी घाट
कोलकाता : …गौर ए गणगौर, माता खोल किवाड़ी…। ऊंचो चोड्यो चोखण नो जल, जमुना रो नीर मंगावो जी राज, जखे ईश्वर तापेड़ियां बाकी राण्या ने गौर पूजाओ जी … जैसे लोक गीतों से पूरा राज्य गूंजेगा। राज्य में गणगौर पर्व की धूम रहेगी। कुवांरी लड़कियां व विवाहिताएं भगवान शिव (ईसर) पार्वती (गौरी) की पूजा करते हुए दूब से पानी के छींटे देकर गौर गौर गौमती गीत गाएंगी। सुहागिनें लंबी आयु की कामना करेंगी। सुहागिनें सुहाग की वस्तुएं जैसे कांच की चूड़ियां, सिंदूर, महावर, मेंहदी, टीका, बिंदी, कंघी, शीशा, काजल गौरी को अर्पित करेंगी।
गंगा घाटों पर रहेगी रौनक : शहर में गुरुवार को गणगौर का महापर्व मनाया जाएगा। महानगर समेत राज्य भर के गंगा घाटों पर रौनक रहेगी। मारवाड़ी समेत माहेश्वरी, स्वर्णकार, पटवा, लखेरा आदि समाजों की महिलाएं पूजा कर अखंड सौभाग्य के लिए प्रार्थना करेंगी। मारवाड़ी महिलाओं की भीड़ महानगर व हावड़ा में रहेगी। माहेश्वरी महिलाएं जहां गणगौर काे पानी पिलाकर उन्हें वापस ले आयेंगी, वहीं मारवाड़ी महिलाएं गणगौर को नम आंखों से विदा करेंगी।
बड़ाबाजार में आज रहेगी रौनक : बुधवार के पहले से ही बड़ाबाजार, राममंदिर, कुम्हारटोली, हावड़ा एसी, हिन्दमोटर, लिलुआ व डॉनबोस्को समेत अन्य इलाकों में इसरजी-गणगौर व कान्हा आदि की मूर्तियां मिल रही थीं। आज यानी गणगौर के दिन भी बाजारों में रौनक छायी हुई है। कहीं मोर तो कहीं गुलाब के फूलों की डिजाइन में बनी पालकिओं में इनकी रंगबिरंगी मूर्तियां सजी बाजारों में मिल रही हैं। वहीं बाजारों में महिलाएं अपनी मनपसंद कपड़े खरीदती हुई व मेहंदी लगवाती हुई नजर आयीं। गणगौर खरीदने आयी स्नेहा वाजपेयी ने कहा कि दो साल पहले की अपेक्षा अब गणगौर के दाम आसमान छू रहे हैं। इसलिए छोटी साइज की ही मूर्ति की खरीदारी की है। वहीं अंजू शर्मा का भी यही कहना है कि गणगौर की मूर्तियां काफी महंगी हैं।
बड़ाबाजार में समितियां हैं तैयार : बड़ाबाजार में गणगौर की समितियां हैं। सब मिलकर सम्मिलित समिति बनाकर त्योहार मना रही हैं। सभी ने आज के महोत्सव की तैयारियां पूरी कर ली हैं। इसमें 9 मंडलियां भी तैयार हैं। इस बारे में श्री श्री गवरजा माता समिति में आनेवाली 9 मंडलियों में 5 मंडलियां ही घाट पर जायेंगी। इस बारे में संयोजक नरेंद्र कुमार बागड़ी ने सन्मार्ग को बताया कि इस बार कोविड के नियमों को ध्यान में रखते हुए शोभायात्रा छोटे रूप में ही नकाली जायेगी। इसमें 5 मंडलियां जिनमें श्री श्री गवरजा माता बलदेवजी, श्री श्री गोवर्धनाथ गवरजा माता, श्री श्री गवरजा माता कलाकार स्ट्रीट, श्री श्री गवरजा माता गांगुली लेन, श्री श्री गवरजा माता एवं श्री नींबूतल्ला पंचायत ये संस्थाएं ही घाटों पर जायेंगी। इसमें लोगों की भीड़ नहीं होगी। वहीं दूसरी और श्री श्री गवरजा माता पारीख कोठी, श्री श्री गवरजा माता बांसतल्ला, श्री श्री गवरजा माता हंसपुकुर एवं श्री श्री गवरजा माता मानसपुरण की संस्थाएं गंगा घाट से जल लाकर ही मां गवरजा को पानी पिलायेंगी। वहीं वीआईपी अंचल, हिन्दमोटर अंचल, पूर्व कोलकाता माहेश्वरी सभा, हावड़ा के साथ ही जिलों में बहुत ही धूमधाम से पर्व को आयोजित करती आ रही हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

घरों में आवश्यक दवाओं का स्टॉक रख रहे लोग

मांग व आपूर्ति में अंतर बढ़ने के आसार दवा विक्रेताओं की चिंता बढ़ी सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः कोरोना वायरस के सेकेंड वेव में कई समस्याएं बढ़ी हैं। आगे पढ़ें »

ममता कैबिनेट ने ली शपथ, कई पुरानों को मौका, नए नाम भी शामिल

कोलकाता : पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के बाद तीसरी बार राज्य की सीएम बनीं ममता बनर्जी के कैबिनेट आगे पढ़ें »

ऊपर