राज्य सरकार ने शिशिर व दिव्येंदु अधिकारी की सुरक्षा में…

दिव्येंदु ने कहा, राज्य सरकार ने हटा दी हमारी सुरक्षा, सीएम को लिखा पत्र
सन्मार्ग संवाददाता
खड़गपुर/कांथी : पूर्व मिदनापुर जिला अंतर्गत कांथी के सांसद शिशिर अधिकारी तथा तमलुक के सांसद दिव्येंदु अधिकारी की सुरक्षा व्यवस्था को राज्य सरकार की ओर से वापस ले लिए जाने की चर्चा है। दिव्येंदु अधिकारी का आरोप है कि राज्य सरकार ने अधिकारी परिवार के 2 सांसदों की सुरक्षा व्यवस्था को वापस ले लिया है। यहां तक कि वरिष्ठ सांसद शिशिर अधिकारी की सुरक्षा व्यवस्था के लिए दी गयी बुलेट प्रूफ गाड़ी को भी वापस ले लिया गया, लेकिन राज्य पुलिस का कहना है कि दोनों सांसदों की सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस रहेगी। जिला पुलिस के एसपी अमरनाथ ने कहा कि दोनों सांसदों की सुरक्षा व्यवस्था जैसे पहले थी वैसी ही रहेगी, लेकिन उसमें कुछ परिवर्तन किया गया है।
किसी की दया पर निर्भर नहीं हैं – शिशिर
सांसद शिशिर अधिकारी ने सन्मार्ग से बातचीत करते हुए कहा कि किसी के दया पर नहीं हैं। भगवान और लोगों का आशीर्वाद बना हुआ है। कौन सुरक्षा हटाया, कौन नहीं, इन सभी से कुछ फर्क नहीं पड़ता है। राज्य पुलिस की सुरक्षा में कोई लापरवाही न बरती जाए इसके लिए दिव्येंदु अधिकारी ने सीएम ममता बनर्जी को पत्र भी लिखा है।
राज्य सरकार ने बगैर नोटिस के सुरक्षा व्यवस्था को वापस ले लिया – दिव्येंदु
शनिवार की सुबह दिव्येंदु अधिकारी ने आरोप लगाया कि राज्य पुलिस की ओर से उनकी व शिशिर अधिकारी की सुरक्षा व्यवस्था को वापस ले लिया गया है। उन्होंने कहा कि सुरक्षा के लिए केंद्र सरकार से कोई आवेदन नहीं किया गया था। केंद्र की सरकार ने उनकी सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत बनाना जरूरी समझा, सो उनकी सुरक्षा बढ़ाई गई है, लेकिन राज्य सरकार ने तो बगैर किसी नोटिस के ही राज्य पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था को वापस ले लिया है।
मालूम हो कि विधानसभा चुनाव के पहले ही शुभेन्दु अधिकारी राज्य सरकार की सुरक्षा व्यवस्था को वापस कर भाजपा में शामिल हो गए थे। जिसके बाद केंद्र की सरकार की ओर से उन्हें सुरक्षा के लिए केंद्रीय सुरक्षा वाहिनी उपलब्ध करायी गयी। उसके बाद शुभेन्दु का हाथ पकड़ कर उनके भाई सौमेन्दु अधिकारी भी भाजपा में शामिल हो गये और शिशिर अधिकारी भी केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह व पीएम नरेंद्र मोदी की सभा में मौजूद रहे, लेकिन उन्होंने सीधे भाजपा का पताका नहीं पकड़ा। हालांकि तमलुक के सांसद दिव्येंदु अधिकारी भी भाजपा की किसी भी सभा में शामिल नहीं हुए थे, लेकिन फिर भी टीएमसी ने शिशिर व दिव्येंदु को संगठन समेत कई महत्वपूर्ण पदों से हटा दिया। जिसके बाद दोनों सांसदों की सुरक्षा व्यवस्था को भी कुछ हल्का कर दिया गया, लेकिन इसे देखते हुए केंद्र सरकार की ओर से शुक्रवार को दोनों सांसदों की सुरक्षा व्यवस्था के लिए केंद्रीय वाहिनी को तैनात किए जाने का निर्देश जारी किया गया लेकिन इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि दोनों सांसदों की राज्य पुलिस की सुरक्षा जैसे पहले थी वैसे ही अब भी रहेगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

माध्यमिक के लिए 50 : 50 सूत्र, एचएस के लिए 40 : 60 सूत्र से मिलेंगे अंक

माध्यमिक का 9वीं का वार्षिक और 10वीं की इंटरनल परीक्षा के आधार पर होगा रिजल्ट उच्च माध्यमिक के लिए 2019 की माध्यमिक और 11वीं की प्रैक्टिकल आगे पढ़ें »

लड़कियों के स्तनों को छूने से पहले…

कोलकाता : जानना चाहते हैं कि किसी लड़की के स्तनों को कैसे छुएं। बहुत से पुरुषों को समझ नहीं आता है कि वह पहली बार आगे पढ़ें »

ऊपर