सर्पदंश के मरीज को अस्पताल न ले जाकर किया गया घंटों झाड़फूंक फिर हुआ कुछ ऐसा

बारासात : बारासात के देगंगा थाना अंतर्गत बेड़चांपा निवासी समीर बारुई (42) रोज की तरह ही शनिवार को भी नदी में मछली पकड़ने गया था मगर इस दिन मछली के हाथ आने से पहले ही उसे एक विषधर ने डंस लिया। आरोप है कि इस आधुनिक युग में जहां हर तरह की चिकित्सा अस्पतालों में मौजूद है और लोगों को बार-बार स्थानीय निकाय व पंचायत से जागरूक करने के बाद भी समीर के रुढ़िवादी परिवार ने उसे अस्पताल ले जाने के बजाय इलाके के एक ओझा के पास उसे ले गये। आरोप है कि समीर की बेहोशी की अवस्था में होने पर भी उसका घंटों झाड़फूंक किया गया। इस पर भी जब कोइ लाभ नहीं मिला तो कुछ लोगो के दबाव देने पर परिवारवाले उसे विश्वनाथपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले गये। अस्पताल में डॉक्टरों ने उसके सर्पदंश से मौत हो जाने की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि समय रहते अगर समीर को अस्पताल ले आया गया होता तो उसकी जान बच सकती थी। इस घटना को लेकर इलाके के कुछ लोगों ने आरोप लगाया कि पुलिस में इस गड़बड़ी की खबर दिये जाने के बाद भी कोई सक्रियता नहीं दिखायी गयी और समीर को अंधविश्वास की बलि चढ़ना पड़ा। उन्होंने ओझा की गिरफ्तारी की मांग की है हालांकि इस घटना के बाद से वह फरार है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बार ने कहा : बायकॉट का कोई फैसला नहीं

हुई हाई कोर्ट के कॉलेजियम के पांच जजों के साथ बैठक पर सीनियर एडवोकेटों द्वारा अध्याचिक बैठक होगी आज सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : हाई कोर्ट बार एसोसिएशन ने आगे पढ़ें »

ऊपर