व्यक्ति ने सोशल मीडिया पर खुद को बताया शुभेंदु का सचिव!

जमकर हुई आलोचना
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः चौकीदार अर्नबकांति दास रविवार दोपहर तक सोशल मीडिया पर बीजेपी संसदीय दल के सचिव होने का दावा करते रहे। हालांकि, जैसे ही इसे ऑनलाइन खोजना शुरू किया गया, ट्विटर और व्हाट्सएप से उनकी यह पहचान जल्द गायब हो गई। हालांकि ट्विटर पर केवल भाजपा संसदीय दल के सचिव की पहचान की गई थी, व्हाट्सएप पर लिखा गया था कि वह विपक्षी नेता शुभेंदु अधिकारी के सचिव भी थे। राज्य भाजपा ने दावा किया कि अर्नबकांति कभी पार्टी के प्रभारी नहीं थे। भाजपा सूत्रों के अनुसार, एक समय मुकुल रॉय के करीबी अर्नबकांति पार्टी के राज्य कार्यालय में नियमित रूप से आते थे। कुछ समय बाद वे खुद ही पार्टी का काम देखते थे। इसके लिए अलग से कोई जिम्मेदारी उन्हें नहीं दी गई थी। हैरानी की बात यह है कि बीजेपी के प्रदेश नेताओं को भी नहीं पता था कि अर्नबकांति फर्जी पहचान दे रहे हैं। 2016 से बीजेपी विधायक और अब मुख्य सचेतक मनोज टिग्गा इस पहचान के बारे में सुनकर हैरान रह गए। मनोज ने कहा कि, ”क्या आपने सच में ऐसा दावा किया था? उन्होंने कहा कि मैं सोमवार को इस बारे में शुभेंदु अधिकारी से बात करूंगा।”

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

महानगरः सिनेमा हॉल में स्क्रीनिंग….

कुछ सिनेमा हाल मालिकों ने सिंगल स्क्रीनिंग के साथ शुरू किया परिचालन सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः शहर के सिनेमा हॉल मालिकों ने कहा कि वे पश्चिम बंगाल सरकार आगे पढ़ें »

ऊपर