मरीज था वेंटिलेटर पर, मिनरल वाटर का भी बनाया बिल

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः ढाकुरिया स्थित एक निजी हॉस्पिटल में भर्ती 74 साल के मरीज के परिजनों ने वेस्ट बंगाल क्लिनिकल इस्टेब्लिशमेंट रेग्युलेटरी कमिशन में अधिक बिल बनाने संबंधी शिकायत की थी। इसमें कहा गया था कि मरीज जब वेंटिलेटर पर था, तब भी मिनरल वाटर बोतल तक के बिल बनाए गए। अस्पताल में अमरेंद्र पाल को इलाज के लिए भर्ती करवाया गया था। करीब 9 लाख 34 हजार का बिल बना था। वेस्ट बंगाल क्लिनिकल इस्टेब्लिशमेंट रेग्युलेटरी कमिशन के चेयरमैन जस्टिस असीम कुमार बनर्जी ने कहा कि जांच में हमने पाया कि पैथोलॉजी सहित कई बिल अधिक बनाए गए हैं। ऐसे में 3 लाख रुपये वापस करने का निर्देश दिया गया है।
कस्तुरी मेडिकल सेंटर में एक मामले में परिजनों को 1000 रुपये वापस करने का निर्देश दिया गया। वहीं शंकरनाथ डायलिसिस सेंटर पर एक किडनी की मरीज कृष्णा ‌अधिकारी (46) के परिजनों ने हेल्थ कमिशन में शिकायत की थी। मामले में 20 हजार रुपये की क्षतिपूर्ति का निर्देश दिया गया। इसके अलावा आरएसवी हॉस्पिटल पर बिल‌िंग संबधित शिकायत पर हेल्थ कमिशन ने 38 हजार रुपये का डिस्काउंट देने का निर्देश दिया।
3 लाख क्षतिपूर्ति का निर्देश
नदिया के कृष्णनगर स्थित बंदन हॉस्पिटल में रीमा मंडल को सड़क हादसे के बाद भर्ती करवाया गया था। आरोप है कि उन्हें बेड शोर हो गया था, साथ ही समय पर चिकित्सा नहीं मिली। मामले को लेकर हेल्थ कमिशन में शिकायत की गई थी। वेस्ट बंगाल क्लिनिकल इस्टेब्लिशमेंट रेग्युलेटरी कमिशन के चेयरमैन जस्टिस असीम कुमार बनर्जी ने अस्पताल को परिजनों को 3 लाख रुपये की क्षतिपूर्ति देने का निर्देश दिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ढाई किलोमीटर पैदल चलकर ममता बनर्जी ने महंगाई का किया विरोध

ढाई किलोमीटर पैदल चलकर ममता बनर्जी ने महंगाई का किया विरोध-रैली में फंसे एंबुलेंस को मुख्यमंत्री ने खुद दिखाया रास्ता -महंगाई के खिलाफ महिलाओं की रैली आगे पढ़ें »

‘भवानीपुर के बजाय आपकी स्कूटी नंदीग्राम में लैंड हो गयी’

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : पिछले सप्ताह मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा पेट्रोल व डीजल के दाम में वृद्धि का प्रतिवाद करने के लिए की गयी स्कूटी की आगे पढ़ें »

ऊपर