मरीज था जिंदा, अस्पताल ने परिजनों को दे दिया डेथ सर्टिफिकेट

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : महानगर में एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। आरोप है कि एक मरीज जिसका कि इलाज अस्पताल में चल रहा था, उसके परिजनों को उसके मरने की सूचना दे दी गई। साथ ही साथ डेथ सर्टिफिकेट भी जारी कर दिया गया। चौंकाने वाली यह घटना लेकटाउन के डैफोडिल अस्पताल में हुई है। स्थानीय सूत्रों के अनुसार हावड़ा के डोमजुर के निवासी 52 वर्षीय उदय शंकर चौंगदार को नर्व की समस्या के चलते 5 जुलाई को अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। उन्हें बेड नंबर एक पर भर्ती कराया गया था। मरीज के बेटे ने कहा कि अस्पताल के अधिकारियों ने उसे बुधवार शाम करीब चार बजकर 40 मिनट पर फोन किया और बताया कि उसके पिता की मौत हो गई है। उनका अंतिम संस्कार करने के लिए सारी तैयारियां करते हुए परिजन फूल लेकर अस्पताल पहुंचे। इस बीच जैसे ही उदय शंकरबाबू के परिजन अस्पताल पहुंचे शव को देखकर चौंक गए। आरोप है कि उदय शंकर बाबू के शव की जगह दूसरे शव ने ले ली थी। उनके मृत्यु प्रमाण पत्र के साथ शव को उन्हें सौंप दिया गया था।
आईसीयू में जिंदा मिले पिता : परिजन इस बारे में सोच ही रहे थे कि अचानक बाद में उनके बेटे ने पिता को दूसरे आईसीयू बेड पर देखा। वहां उनका इलाज चल रहा है। इसके बाद परिजन भड़क गए। उनकी शिकायत है कि अस्पताल में लापरवाही से यह घटना हुई है। हालांकि, अस्पताल के अधिकारियों ने तुरंत मरीज के परिवार से मृत्यु प्रमाण पत्र की मांग की। मरीज के परिवार की आगे शिकायत यह है कि यहां न्यूरो ट्रीटमेंट की जगह किडनी की बीमारी का इलाज चलाया जा रहा था। अस्पताल में गलत इलाज किए जाने का आरोप भी भाइयों ने लगाया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

दोनों हाथ में पिस्तौल लेकर फेसबुक पर तस्वीर किया पोस्ट, पहुंचा हवालात

वाट्स ऐप ग्रुप बनाकर हथियारों की खरीद फरोख्त करता था अभियुक्त सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : दोनों हाथ में पिस्तौल लेकर फेसबुक पर तस्वीर पोस्ट करना एक युवक आगे पढ़ें »

ऊपर