अस्पताल के मर्ग का फ्रिजर खराब, शव को चूहों ने कुतरा

शव से नाक गायब, कान पर भी चुहों के दांत के निशान
फ्रिजर खराब फ्रिजर के बारे में जानकार चुपचाप बैठी अस्पताल प्रबंधन
सिलीगुड़ी: चूहों द्वारा शव कुतरने की घटना सरकारी स्वास्थ्य परिसेवा को सवालों के घेरे में ला रही है। पिछले कई दिनों से जिला अस्पताल में शवों को रखने वाला फ्रिजर खराब है। आरोप है कि मर्ग में जैसे तैसे शव रखने के वजह से चुहा मानव शरीर को अपना भोजन बना रही है। इस घटना को लेकर गुरुवार सिलीगुड़ी जिला अस्पताल में माहौल उत्तेजीत हो उठा। आरोप है कि खराब फ्रिजर के वजह से मर्ग में रखा शव पड़े पड़े खराब हो रहा है। मर्ग का फ्रिजर खराब होने का मामला अस्पताल प्रबंधन के संज्ञान में रहने के बाद आज तक उसपर कोई कार्यवाही नहीं की गई।
अस्पताल सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार दोपहर को पापई मल्लिक (33) का शव जिला अस्पताल में लाया गया। मृतक बीड़पाड़ा का निवासी है लेकिन काम के सिलसिसे में सिलीगुड़ी के प्रधान नगर में रहता था। गुरुवार सुबह पापाई के शव को जिला अस्पताल से पोस्टमर्टम के लिए मेडिकल कॉलेज में भेजने के दौरान परिवार वालों ने गौर किया कि शव का नाक चूहों ने खा लिया है। शव के अन्य हिस्सों में भी चूहों ने दांत लगाया है।
मृतक के परिजन सुब्रत कुमार दास तथा अभिनंदन साहा का आरोप है कि जिला अस्पताल के मर्ग का फ्रिजर खराब है। इसके बाद भी शव को वहां रखा गया था। आज जब पापाई के शव को पोस्टमर्टम के लिए भेजने के दौरान मर्ग से निकाला गया तो परिवार के सदस्यों ने गैर किया कि नांक पुरी तरह से गायब है। कान को भी चूहों ने कई जगह से कुतर दिया है। इसके अलावे शव पर खुन के दब्बे भी पाये गये थे। परिजनों का कहना है कि पापाई ने फांसी लगाकर आत्महत्या किया था। बुधवार ढ़ाई बजे उसके शव को जिला अस्पताल लाया गया। अभिनंदन साहा ने बताया कि जब इस बारे में उन लोगों ने अस्पताल प्रबंधन से बता किया तो अस्पताल प्रबंधन ने बताया कि मर्ग का फ्रिज खराब है। परिजनों कहना है कि अगर फ्रिज खराब था तो फिर शव को वहां क्यों रखा गया? अगर इस बारे में उन लोगों को पहले बता दिया गया होता तो परिवार इसका बिकल्प व्यवस्था लेते। आरोप है कि शिकायत करने पर अपनी गलती को छिपाने के लिए अस्पताल प्रबंधन ने शव का मरहम पट्टी कर दिया। परिजनों ने आरोप लगाया है कि अस्पताल के अधीक्षक ने घटना को मीडिया में नहीं लाने की धमकी भी दी है।
जब इस बारे में अस्पताल के अधीक्षक डॉ प्रदीप्ता भट्टाचार्य से बात किया गया तो उन्होंने भी मर्ग का फ्रिजर खराब होने की बात को स्वीकार किया है। डॉ प्रदीप्ता भट्टाचार्य ने कहा कि फ्रिजर लंबे समय से फ्रिजर खराब है। इस बात से दार्जिलिंग के एडीएम, पीडब्ल्यूडी व अन्य सरकारी विभागों को अवगत भी कराया गया है। उन्होंने बताया कि जिला अस्पताल के मर्ग में शव को एसडीओ के तत्ववाधान में रखा जाता है। परिजनों ने घटना की शिकायत की है।
वहीं दार्जिलिंग जिला के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमओएच) डॉ प्रलय आचार्य से जिला अस्पताल के मर्ग में खराब फ्रिजर के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि इस बारे में उन्हें कुछ नहीं मालूम। मामले को लेकर जिला अस्पताल के अधीक्षक से बात करेंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मेरी लड़ाई किसी से नहीं, काम मेरी पहचान – फिरहाद हकीम

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : पोर्ट विधानसभा चुनाव में मैं किसी को अपना प्रतिद्वंदी नहीं मानता हूँ। मेरी लड़ाई किसी से नहीं बल्कि मेरी खुद से है। आगे पढ़ें »

क्या आपको पता हैं न्यूड सोने के यह फायदे

नई दिल्ली : अगर आपसे सेहत को बेहतर रखने के तरीके अपनाने के बारे में कहा जाए तो बिना कपड़ों के यानी न्यूड होकर सोने आगे पढ़ें »

ऊपर