बड़ाबाजार से 60 लाख लेकर फरार हुआ कर्मचारी गिरफ्तार

कम वेतन मिलने पर मालिक को सबक सिखाने के लिए लूटे थे रुपये
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : मालिक को सबक सिखाने के लिए 60 लाख रुपये लेकर फरार हुए कर्मचारी को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। घटना बड़ाबाजार थानांतर्गत करबला स्ट्रीट इलाके की है। अभियुक्त का नाम नारायण विश्वास (48) है। वह नेताजीनगर के राइफल रेंड रोड का रहनेवाला है। पुलिस ने उसे हुगली के चंदननगर से गिरफ्तार किया। उसके पास से चोरी के 55.73 लाख रुपये बरामद किए गए हैं।
क्या है पूरा मामला
पुलिस के अनुसार सॉल्टलेक के सेक्टर 3 में रहनेवाले व्यवसायी विभोर अग्रवाल ने शिकायत दर्ज करायी थी कि उनका कर्मचारी नारायण विश्वास 60 लाख रुपये लेकर फरार हो गया है। व्यवसायी ने बताया कि वह सरकारी कान्ट्रैक्टर है और सॉल्टलेक में उनका बिजली का अंडरग्राउंड तार बिछाने का काम चल रहा है। गत 6 जुलाई को उन्होंने अपने कर्मचारी नारायण को 60 लाख रुपये एक पार्टी से लाने के लिए भेजा था। आरोप है कि पार्टी से नकद रुपये लेने के बाद नारायण फरार हो गया। व्यवसायी के अनुसार जब उन्होंने अभियुक्त को फोन पर संपर्क करने की कोशिश की तो उसका नंबर भी बंद पाया। इसके बाद व्यवसायी ने थाने में शिकायत दर्ज करायी। मामले की जांच के दौरान एसआई ऋषिकेश सिंह, एसआई सिद्धार्थ राना, एसआई प्र‌ितम तमांग और एसआई एस.के चटर्जी ने गंभीरता से जांच कर पाया कि अभियुक्त चंदननगर में छिपा हुआ है। पुलिस नेे जांच के दौरान पाया कि अभियुक्त का पत्नी से तलाक हो चुका है। ऐसे में पुलिस ने टेक्न‌िकल सर्विलांस के जरिए उसे धर-दबोचा। अभियुक्त के पास से 55.73 लाख रुपये बरामद किए गए। पूछताछ के दौरान अ‌भियुक्त ने बताया कि मालिक उसे 20 हजार रुपये प्रति महीना वेतन देता था। हालांकि समय पर वेतन नहीं मिलता था। ऐसे में मालिक को सबक सिखाने के लिए उसने यह कदम उठाया। फिलहाल पुलिस अभियुक्त से पूछताछ कर बाकी के रुपये बरामद करने की कोशिश कर रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

सावन में बुधवार का दिन भी होता है बेहद खास, ये 5 उपाय दिखाएंगे कमाल

कोलकाता : हिन्दू धर्म में ज्योतिषशास्त्र के अनुसार सावन का माह बेहद ही खास माना जाता है। यह माह पूर्ण रूप से भगवान शिव को आगे पढ़ें »

ऊपर