जमात-उल-मुजाहिदीन के आतंकी स्लीपर सेल की मदद से आतंकी गतिविधियों को दे सकते हैं अंजाम

मुर्शिदाबाद जिले के चार व मालदह टाउन में हमले की फिराक

इन क्षेत्रों में छापेमारी कर कई आतंकियों की पहले भी हो चुकी है गिरफ्तारी

कोलकाता : आईबी के इनपुट के अनुसार बंगलादेश के एक आतंकी संगठन जमात-उल- मुजाहिदीन भारत के खास कर मुर्शिदाबाद जिले के चार रेलवे स्टेशनों सहित मालदह टाउन रेलवे स्टेशन पर आतंकी हमले की फिराक में है। सूत्रों ने बताया कि एनआईए पहले ही मुर्शिदाबाद और मालदह के कई क्षेत्रों में छापेमारी कर कई आतंकियों को गिरफ्तार कर चुकी है। यह आशंका जाहिर की जा रही है उनकी योजना भी भारत के इन क्षेत्रों में आतंकी गतिविधियों को अंजाम देना ही था। अब ताजा इनपुट के अनुसार मुर्शिदाबाद के चार रेलवे स्टेशनों सहित मालदह टाउन आतंकियों के निशाने पर है। ऐसी आशंका व्यक्त की जा रही है कि आगामी बुधवार को गणतंत्र दिवस पर बंगलादेशी आतंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन के आतंकी भारतीय स्लीपर सेल की मदद से यहां आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे सकते हैं। लगभग फरक्का डैम से सटे न्यू फरक्का रेलवे स्टेशन को रणनीतिक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण समझा जाता है और उसकी सुरक्षा में भी कोई कमी नहीं रखी जाती है। ऐसे में यहां आतंकी हमले की आशंका को देखते हुए सुरक्षा में भारी वृद्धि कर दी गयी है। कई राष्ट्रीय खुफिया एजेंसियों के अधिकारी यहां पैनी निगाह रख रहे हैं।

न्यू फरक्का स्टेशन पर पैनी निगाहः न्यू फरक्का स्टेशन का फरक्का बैरेज से सटा होना यहां खतरे की आशंका को कई गुणा बढ़ा देता है। इसलिए खुफिया अधिकारियों के निर्देश पर पूरे स्टेशन को खाली कर दिया गया है। जीआरपी और आरपीएफ संयुक्त रूप से यहां गश्त लगा रहे हैं। इसके साथ ही यहां आने जाने वाले हर यात्री की जांच की जा रही है। रविवार को भी क्राइम ब्रांच की एक टीम न्यू फरक्का स्टेशन की गहन तलाशी लेकर यहां के चप्पे चप्पे पर सुरक्षा संबंधी खामियों का मुआयना किया। न्यू फरक्का रेलवे स्टेशन के प्रबंधक ने भी बताया कि आतंकी हमले की आशंका के मद्देनजर यहां हाई अलर्ट जारी किया गया है। रेलवे प्रशासन के साथ साथ आरपीएफ और जीआरपी पूरी तरह चौकस है।

पूर्व रेलवे मालदह डिवीजन की सुरक्षा और बढ़ीः उल्लेखनीय है मालदह डिवीजन के पांच रेलवे स्टेशन जिनमें मालदह टाउन, न्यूफरक्का, जंगीपुर, जियागंज और आजिमगंज ऐसे रेलवे स्टेशन हैं जो भारत-बंगलादेश के बीच बनाये गये फरक्का बैरेज से सटे हैं। फरक्का बैरेज राष्ट्रीय महत्व के साथ साथ बिहार और बंगाल और झारखंड जैसे राज्य के लिए काफी अहम है। इसे अगर थोड़ा भी नुकसान होता है ये तीनों राज्य बाढ़ में डूब जायेंगे और यहां की अर्थव्यवस्था तो चौपट होगी ही भारी तबाही से अनगिनत लोगों की जानें भी जाने की आशंका है। ऐसे रेलवे और बंगाल पुलिस की सुरक्षा यहां चप्पे चप्पे पर तैनात की गयी है। सुबह सुबह क्राइम ब्रांच की टीम के अधिकारियों ने यहां की सुरक्षा का जायजा लिया और आवश्यक निर्देश भी दिये।

शेयर करें

मुख्य समाचार

104 डिग्री मिला तापमान तो अंत में ही दे सकेंगे वोट

चुनाव आयोग की कोरोनाकाल में विशेष गाइडलाइन सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः कोरोना काल में विधानसभा चुनाव में संक्रमण से बचाव के लिए चुनाव आयोग ने विशेष पहल की आगे पढ़ें »

चुनाव में काले धन का उपयोग न हो, इसके लिए आयकर के नोडल अधिकारी सक्रिय

23 जिलों में नोडल ऑफिसर नियुक्त सन्मार्ग संवाददाता चुनाव की घोषणा के बाद आयकर विभाग रख रहा है पैंनी नजर कोलकाता : बंगाल में चुनावी बिगुल बजने के आगे पढ़ें »

ऊपर