लोकल ट्रेनों के बंद होने की सूचना से ही फैला आंतक

यात्रियों ने कहा – अब काम पर आने-जाने में होगी परेशानी
कोलकाता : कोरोना परिस्थिति को देखते हुए राज्य सरकार की ओर से लोकल ट्रेनों को फिलहाल बंद करने का निर्देश दिया गया है। यह खबर किसी जंगल में लगी आग की तरह फैल गयी। इस सूचना से सभी स्टेशनों जैसे सियालदह व हावड़ा में यात्रियों के माथे पर सिकन आ गयी है। इनमें दो तरह के यात्री शामिल है’, एक वह जो रोजाना अपने काम के लिए ट्रेनों में सफर करते हैं। दूसरे वह जिनकी जीविका इससे ही जुड़ी है। यात्रियों का कहना है कि केवल ट्रेनों के बंद करने से ही इसका समाधान नहीं निकाला जा सकता है। बाजारों को भी बंद करना जरूरी है। वहीं दूसरे यात्रियों का कहना है कि एक बार फिर 2020 की स्थिति लौट आयेगी।
रेलवे पूरा करेगा सहयोग
राज्य सरकार के निर्देश के बाद रेलवे भी कोविड की स्थिति को नियंत्रित करने में राज्य सरकार का पूरा सहयोग करेगी। इस बारे में पूर्व रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी एकलव्य चक्रवर्ती ने कहा कि राज्य सरकार का प्रस्ताव आते ही उस पर विचार विमर्श किया गया और लोगों के हित के लिए लोकल को बंद करने का निर्णय लिया गया। इधर दक्षिण पूर्व रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी संजय घोष ने कहा कि 146 लोकल ट्रेनों को अभी रद्द रखा जायेगा। रेलवे के एक अधिकारी के अनुसार एक लोकल ट्रेन में 12 कोच होते हैं। करीब 2000 लोगों के चढ़ने की क्षमता होती है। इनमें से 1200 सीटें होती हैं जिस पर लोग बैठते हैं।
क्या कहा यात्रियों ने
रेलवे यात्री अमर कांति दत्ता का कहना है कि लोकल ट्रेन बंद होने से परेशानी होगी लेकिन कोरोना ने जिस तरह कोहरम मचा रखा है, इससे बचने के लिए ट्रेन बंद करना सही निर्णय है। आशीष चक्रवर्ती ने कहा कि हम सीएम के निर्णय से सहमत हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अगर आप भी है अपने बढ़ते वजन से परेशान तो आज से ही खाना शुरु करें ये चीज

कोलकाताः भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के लगभग हर देश में बढ़ते वजन को लेकर लोग परेशान है। ऐसे में वजन कम करने के लिए आगे पढ़ें »

रक्षा से जुड़ी वेबसाइट हैक करने वाले थे चीनी अपराधी, पूछताछ में खुलासा

कोलकाता /मालदह : सीमाई इलाके से अवैध तरीके से भारतीय सीमा प्रवेश करते पकड़े गये अपराधी चीनी नागरिक हानजुनवे (36) ने फिर सनसनीखेज खुलासा किया आगे पढ़ें »

ऊपर