हर इमरजेंसी से निपटने के लिए अस्पतालों में टीम तैयार

यास तूफान को लेकर अस्पतालों ने ऑक्सीजन से लेकर पावर बैक अप का किया इंतजाम
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः यास तूफान को लेकर अस्पतालों ने विशेष तैयारी की है। सरकार व निजी दोनों ही क्षेत्र के अस्पतालों की ओर से सभी प्रकार के ठोस उपाय किए गए हैं। हर परिस्थिति से निपटने के लिए ‌अतिरिक्त उपाय अपनाए गए हैं। रूपक बरुआ, ग्रुप सीईओ, आमरी अस्पताल ने कहा कि जैसा कि मौसम कार्यालय ने भविष्यवाणी की है कि चक्रवात यास का प्रभाव बंगाल पर भी पड़ेगा इसके मद्देनजर हमने कई इंतजाम किए हैं। हमारे ओडिशा व बंगाल दोनों ही राज्यों में अस्पताल हैं। हालांकि, हमने यह सुनिश्चित करने के लिए खुद को तैयार किया है कि हमारे मरीजों और कर्मचारियों को किसी भी तरह से नुकसान न पहुंचे। हमने अपने रोगियों, विशेष रूप से कोविड वार्डों में सहायता के लिए चिकित्सा ऑक्सीजन की पर्याप्त आपूर्ति की व्यवस्था की है। हमने पर्याप्त डीजल की व्यवस्था की है, ताकि बिजली गुल होने की स्थिति में हम हैवी ड्यूटी जनरेटर का उपयोग करके अपने अस्पताल चला सकें।
सी.के.बिड़ला हॉस्पिटल्स के सीओओ डॉ.सिमरदीप गिल ने कहा कि हमने अपने मरीजों और कर्मचारियों दोनों के लिए पर्याप्त भोजन और पीने के पानी का भी स्टॉक कर लिया है। हमने प्रमुख स्टाफ सदस्यों के लिए अस्पताल में और उसके आसपास रहने की व्यवस्था की है।
फोर्टिस हॉस्पिटल ने भी पूर्वानुमानित चक्रवात से निपटने के लिए निवारक उपाय किए हैं। ऋचा सिंह देब गुप्ता, सीनियर वाइस प्रेसिडेंट, फोर्टिस हॉस्पिटल कोलकाता ने कहा कि उदाहरण के लिए, हमारी आंतरिक आपदा प्रबंधन टीम का गठन ऑन-ड्यूटी रखरखाव, सुरक्षा और कर्मचारियों से मिलकर किया गया है। इस टीम का प्रबंधन इंजीनियरिंग प्रमुख, सीएसओ और एफएसओ द्वारा किया जा रहा है और यह मुझे 6 घंटे के आधार पर रिपोर्ट करेगा। हमारी छत की जाँच की गई है और यह सुनिश्चित करने के उपाय किए गए हैं कि कोई भी ढीली उड़ने वाली वस्तु खुली न रखी जाए। इसके अलावा, अस्थायी शेड की जांच की गई और सभी पैनलों को छत में सभी ढीले तारों के साथ कवर किया गया है।
हमने सुनिश्चित किया है कि सड़क को साफ रखा जाए जिसके लिए अस्पताल के वाहन को अंदर पार्क करने के लिए कहा गया है। हमारे ऑक्सीजन स्टॉक को पर्याप्त रूप से बनाए रखा गया है और ऑक्सीजन प्रदाता के साथ संपर्क के साथ 1 दिन का अतिरिक्त बैकअप सुनिश्चित किया गया है जो लगातार और बाधित आपूर्ति का आश्वासन देता है। अस्पताल परिसर के अंदर पानी से भरे क्षेत्र की निकासी सुनिश्चित करने के लिए विशेष रूप से डीजी कक्ष, अतिरिक्त 200 लीटर डीजल को स्टैंडबाई स्टॉक के रूप में खरीदा गया है। सुझाव के अनुसार, यूपीएस और डीजी की जांच की गई है और पूरी तरह कार्यात्मक पाया गया है।
यह उपाय अपनाए गए
-ऑक्सीजन का पर्याप्त स्टॉक रखा गया
-कर्मचारियों व डॉक्टरों के ठहरने व खाने की व्यवस्था
-जनरेटर की व्यवस्था पर्याप्त डीजल के साथ
-जलजमाव न हो इसके लिए ठोस उपाय
-अलर्ट मोड पर विशेष टीम भी तैयार
-सुरक्षा के मद्देनजर भी ठोस प्रबंध

शेयर करें

मुख्य समाचार

डेंगू के खात्मे के लिए अकेले लड़ रहा राज्य

हर साल राज्य में 700 करोड़ रुपये खर्च होता है ‌डेंगू नियंत्रण पर सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः डेंगू को खत्म करने के लिए राज्य अकेले ही लड़ रहा आगे पढ़ें »

पूरे सप्ताह के राशिफल पर एक नजर

भविष्यदर्शन 20 से 26 जून 2021 ग्रह संचरण-सूर्य और शुक्र मिथुन में बाद शुक्र 22/6 को घं. 14/21 से कर्क में, मंगल कर्क में, केतु वृश्चिक आगे पढ़ें »

ऊपर