एयरपोर्ट पर फिर लौटने लगे हैं टैक्सी दलाल

लॉकडाउन व भुखमरी ने किया मजबूर
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कोलकाता एयरपोर्ट पर फिर से लौटने लगे हैं टैक्सी दलाल। लॉकडाउन में काफी लोगों की नौकरी चली गयी। छोटे-मोटे काम करने वाले भी बेरोजगार हो गये। अब दमदम इलाके व आस-पास रहने वाले कुछ लोगों को एक मौका मिल गया है टैक्सी दलाली का। या यूं कहें कि इजी मनी कमाने का। एयरपोर्ट पर सुबह-सुबह पहुंच कर ये इसी काम में लग जाते हैं। एयरपोर्ट के अराइवल के बाहर अगर कोई भी सामानों के साथ 5 से 10 मिनट तक खड़ा हो जाए तो यात्रियों के पास एक-एक कर मधुम​क्खियों के झुंड की तरह ये टैक्सी दलाल आने लगते हैं और उन्हें टैक्सी व वाहन तक ले जाने की कोशिश करते हैं। कोलकाता एयरपोर्ट पर इन दिनों यात्रियों की संख्या 45,000 से अधिक हो गयी है। पिछले साल से विधाननगर कमिश्नरेट की ओर से प्री-पेड टैक्सी को बढ़ाने के लिए और प्री-पेड टैक्सी को बुक करने के लिए एक सिस्टम वर्चुअल क्यू मैनेजमेंट तैयार किया गया है। इसकी शुरुआत पिछले नवंबर में हुई थी जहां एक यात्री के मिस्ड कॉल देने पर ही टाइम स्लॉट बुक हो जाता है लेकिन अभी देखा गया है कि यात्री फिलहाल उतने जागरूक नहीं हैं। यात्री एयरपोर्ट से बाहर निकलने के बाद इतनी हड़बड़ी में रहते हैं कि वे बाहर निकलते ही जो भी सुविधा हो उससे तुरंत अपने आवास या फिर अपने गंतव्य तक जाना चाहते हैं। कोलकाता एयरपोर्ट से लाख कोशिशों के बावजूद टैक्सी दलालों को हटाने में पुलिस प्रशासन विफल नजर आ रहा है।
नौकरी नहीं है, इसलिए करना पड़ता यह काम
इस बारे में टैक्सी टाउट ए बर्मन ने बताया कि ​यात्रियों की संख्या इन दिनों बढ़ी है। उतनी संख्या में यहां टैक्सी या ऐप कैब नहीं हैं। ऐसे में हम इनकी मदद करते हैं। अगर कोई जाने काे इच्छुक होता है तो ही उसे हम ले जाते हैं। कोई भी यात्री अपनी मर्जी से जाता है न कि किसी दबाव में। अगर सभी सुविधाएं दुरुस्त होतीं तो फिर यात्री क्यों हमारे पास आते ? वहीं एक टाउट ने नाम न बताने की शर्त पर कहा कि उसने साइंस से ग्रेजुएट किया है लेकिन अभी तक उसे कोई नौकरी नहीं मिली है, इसलिए वह इसी काम में लग गया है। उसे इस काम में कम से कम 100 रुपये का फायदा हो जाता है। अगर वह 10 यात्रियों को भी टैक्सी दिलवा देता है तो उसे एक दिन में 1000 रुपये मिल जाते हैं। इसमें रिस्क भी है, अगर पकड़ा गया तो सीधे थाने में जाना पड़ जाएगा। वहीं कुछ टैक्सी ड्राइवर खूद भी बाहर टैक्सी खड़ा कर अंदर आ जाते हैं और यात्रियों से मनमाना किराया वसूलने की फिराक में रहते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ईपीएल : लिपरपूल की एक और हार, एवर्टन और टोटैनहैम जीते

लंदन : लिवरपूल को अपने घरेलू मैदान एनफील्ड में लगातार पांचवीं हार का सामना करना पड़ा जबकि एवर्टन और टोटैनहैम इंग्लिश प्रीमियर लीग (ईपीएल) फुटबॉल आगे पढ़ें »

जिले के तृणमूल उम्मीदवारों ने किया जोर-शोर से प्रचार शुरू

बैरकपुर : प्रार्थी के तौर पर अपने नाम की घोषणा हो जाने के बाद ही जिले के तृणमूल उम्मीदवारों ने कहीं मंदिर में माथा टेककर आगे पढ़ें »

ऊपर