टाला ब्रिज : 2 डेडलाइन पार, अब तीसरे का है इंतजार

जुलाई – अगस्त तक शुरू होने की संभावना
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : उत्तर कोलकाता और उत्तर 24 परगना के लोगों के लिए लाइफ लाइन से कम नहीं टाला ब्रिज पूरी तरह से अभी तक तैयार नहीं हो पाया है। नये टाला ब्रिज का डेडलाइन एक बार फिर से पार हाे चुका है। लगभग दो डेडलाइन पार हो चुका है तथा अब तीसरे का इंतजार है। गत विधानसभा सत्र के दौरान राज्य के पीडब्ल्यूडी मंत्री मलय घटक ने आशा व्यक्त की थी कि फरवरी – मार्च (2022) तक ब्रिज शुरू हो जाये, मगर किन्ही कारणों से ऐसा नहीं हो पाया है। सूत्रों के मुताबिक अब जुलाई तक नया टाला ब्रिज की शुरूआत हो सकती है। अभी भी काम जारी है। स्थानीय विधायक व डिप्टी मेयर अतिन घोष ने कहा कि पहले क्या डेडलाइन दिया गया था इसकी जानकारी उन्हें नहीं है लेकिन अब पूरा यकीन है कि जुलाई से नया टाला ब्रिज चालू हो जायेगा। इस ओर काम तेजी से चल रहा है। डिप्टी मेयर खुद कई बार निर्माणाधीन ब्रिज का परिदर्शन कर चुके हैं तथा इंजीनियरों से बातचीत करके काम पर पूरी निगरानी बनाये हुए है।
रेलवे की है यह भूमिका
जब भी किसी रेलवे लाइन के ऊपर से कोई ब्रिज गुजरता है तो ऐसे में लाइन के ऊपर का हिस्सा रेलवे की देखरेख में होता है। वहां किसी भी तरह का बदलाव तभी संभव है जब रेलवे बोर्ड की सहमति हो। माझेरहाट ब्रिज की ही तरह टाला ब्रिज भी आरोबी (रेल ओवर ब्रिज) है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक टाला ब्रिज के लिए भी यह अनुमति रेलवे की तरफ से दी गयी है। गत दिसंबर महीने में रेल की तरफ से अनुमति (सीआरएस) मिल गयी। इसके बाद से ही टाला ब्रिज का काम तेजी से चला।
एक नजर इस पर
* ब्रिज तैयार का अनुमानिक खर्च करीब 465 करोड़ रुपये है
* सीएम ममता बनर्जी कर सकती हैं नये ब्रिज का उद्घाटन
* वर्ष 2020 में 31 जनवरी की मध्य रात से टाला ब्रिज को बंद कर दिया गया
* उसके बाद तोड़ने का काम शुरू किया गया।
* 2020 के अगस्त से नया टाला ब्रिज का काम शुरू किया गया।
* 750 मीटर लंबा इस ब्रिज पर दोनों ओर से लोगों के चलने के लिए रास्ता भी होगा।
* पहले टाला ब्रिज करीब 150 टन भार वहन की क्षमता थी अब नये ब्रिज पर भार वहन की क्षमता करीब 350 टन होगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

कोरोनाकाल भूल गया कुम्हारटोली, प्री कोविड वाली रौनक लौटने लगी

10 दिन पहले ही प्रतिमा आ जायेगी पंडालों में यूनेस्को ने बंगाल के दुर्गापूजा उत्सव को दिया है सांस्कृतिक विरासत का दर्जा एक नजर इस पर कोलकाता में आगे पढ़ें »

ऊपर