पंचतत्व में विलीन हुए सुब्रत दा

राजकीय सम्मान के साथ दी गयी अंतिम विदायी
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : बंगाल की राजनीति का एक जगमगाता सितारा अस्त हो गया। सुब्रत दा अपनी यादें छोड़कर हमेशा के लिए दुनिया को अलविदा कह गये। शुक्रवार को केवड़ातल्ला महाश्मशान में सुब्रत मुखर्जी को राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदायी दी गयी। गन सैल्यूट देते हुए उन्हें पंचतत्व में विलीन किया गया। सुब्रत मुखर्जी को अंतिम श्रद्धांजलि देने के लिए तृणमूल के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बंद्योपाध्याय समेत पार्टी के तमाम नेता केवड़ातल्ला पहुंचे थे।
नेता, अभिनेता व आम लोगों ने दी श्रद्धांजलि
सुब्रत मुखर्जी के पार्थिव शरीर को सबसे पहले रवींद्र सदन सुबह लाया गया, जहां पक्ष-विपक्ष के तमाम नेताओं के साथ आम लोगों ने माल्यार्पण कर उन्हें अंतिम विदायी दी।
यहां डॉ. शशि पांजा, विवेक गुप्त, तापस रॉय, देवाशिष कुमार, निर्मल घोष, वैष्वानर चट्टोपाध्याय, डॉ. निर्मल माझी समेत तृणमूल के वरिष्ठ नेता मौजूद थे जिन्होंने अपनी ओर से सुब्रत दा को श्रद्धांजलि दी। सुब्रत मुखर्जी वह चेहरा रहे हैं जिन्हें किसी पहचान की जरूरत नहीं रही, इस बात का पता रवींद्र सदन में आम जनता की भीड़ को देखकर लगाया जा सकता था। लोग उनकी आखिरी झलक पाने के लिए नम आंखों से टकटकी लगाये हुए थे। कांग्रेस सांसद प्रदीप भट्टाचार्य, अमिताभ चक्रवर्ती, अब्दुल मन्नान और तपन अग्रवाल भी वहां पहुंचे थे। भाजपा से सांसद दिलीप घोष ने भी माल्यदान कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।
अंतिम विदायी देने के लिए विधानसभा पहुंचे राज्यपाल और शुभेन्दु
विधानसभा में करीब दो बजे सुब्रत मुखर्जी का पार्थिव शरीर लाया गया जहां राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने उन्हें श्रद्धांजलि दी। उनके अलावा तृणमूल के वरिष्ठ सांसद सुदीप बंद्योपाध्याय, बिमान बनर्जी, पार्थ चटर्जी, फिरहाद हकीम, अरूप विश्वास, सुजीत बोस, ज्योतिप्रिय मल्लिक सहिततमाम विधायक और मंत्री वहां मौजूद थे। विधानसभा में विरोधी दल के नेता व भाजपा विधायक शुभेन्दु अधिकारी ने भी सुब्रत मुखर्जी का अंतिम बार दर्शन कर उन्हें अलविदा कहा।
घर से केवड़ातल्ला तक निकली शव यात्रा
सुब्रत मुखर्जी का पार्थिव शरीर आखिरी बार उनके गरियाहाट स्थित घर पर लाया गया, वहां से केवड़ातल्ला महाश्मशान तक उनकी शवयात्रा निकायी गयी। इसके पहले एकडालिया एवरग्रीन में उनका शव लाया गया। केवड़ातल्ला में सुब्रत दा को बाकायदा राजकीय सम्मान देते हुए उन्हें बंदूक की सलामी दी गयी। सभी ने नम आंखों से उन्हें विदायी दी। अंतत: शव जब तक पंचतत्व में विलीन नहीं हुआ तब तक अभिषेक बंद्योपाध्याय समेत बाकी सभी नेता उनकी शेष यात्रा तक मौजूद रहे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बहुमंजिली इमारत पर पाइप के जरिए चढ़ कर करता था चोरी

सोनारपुर से पकड़ा गया अभियुक्त सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : महानगर की बहुमंज‌िली इमारत में पाइप के जरिए चढ़ कर फ्लैट से कीमती मोबाइल फोन और लैपटॉप चुराने आगे पढ़ें »

जाने आज के दिन का इतिहास

अद्भुत! साधु ने 48 सालों से हवा में उठाया है एक हाथ, वजह चौंकानेवाली

व‍िक्‍की कौशल को महंगी पड़ने वाली है जूते-चुराई की रस्‍म!

ब्रेकिंग: चण्डीतल्ला में एक ही परिवार के तीन लोगों की हत्या करने वाले आरोपी का शव स्टेशन से बरामद

कुत्ते को जिंदा जलानेवाले आरोपी पर 50 हजार का इनाम

भाजपा उम्मीदवार हैं मुश्किल में, दो कदम चलने को भी नहीं मिल रहा साथ

ड्रग्स के बदले जिस्म का सौदा : अहमदाबाद में बड़े घरों की 48 लड़कियां ड्रग्स के चक्रव्यूह से छुड़ाई गईं

Good News : महिला सुरक्षा पर ऑटो व कैब ड्राइवरों को प्रशिक्षण देगी कोलकाता ट्रैफिक पुलिस

आयरन व स्टील ग्रुप के यहां आयकर का छापा, 100 करोड़ के बेहिसाब धन का पता चला

ऊपर