उच्च शिक्षा के लिए स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड, ममता की बड़ी घोषणा

पश्चिम बंगाल में 10 साल तक रहे लोगों को मिल सकेगी सुविधा
40 वर्ष की उम्र तक ले सकते हैं लोन
नौकरी लगने के 1 साल बाद से 15 सालों के अंदर चुकाना पड़ेगा लोन
कोलकाता : गुरुवार को कैबिनेट की बैठक के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने नवान्न में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित किया। संवाददाताओं को संबोधित करते हुए ममता बनर्जी ने स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड के बारे में जानकारी दी और कहा कि 30 जून को स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड लांच किया जाएगा। इसके माध्यम से छात्र भारत व विदेशों में उच्च शिक्षा के लिए 10 लाख रुपये तक का लोन ले सकते हैं। क्रेडिट कार्ड की खास बात ये है कि इसके लिए किसी तरह के गारंटर की आवश्यकता नहीं है, सरकार खुद इसकी गारंटर रहेगी। सीएम ने कहा, ‘दसवीं कक्षा से इसकी शुरुआत की जा रही है। दसवीं में लगभग 12 लाख छात्र-छात्राएं पढ़ते हैं जिन्हें स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड का लाभ मिल सकेगा। इसी तरह 12वीं कक्षा में साढ़े 9 लाख छात्र-छात्राएं हैं। छात्रों के लिए पहले से कई योजनाएं सरकार ने चालू की हैं। छात्र-छात्राएं हमारा गर्व हैं और उनकी पढ़ाई के लिए अभिभावकों को अपना घर नहीं बेचना पड़ेगा, सरकार आपके साथ है। 30 जून को आधिकारिक तौर पर नये स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड की शुरुआत की जाएगी, गुरुवार को कैबिनेट में ये पास हुआ है। इस रुपये से स्नातक, स्नातकोत्तर, डॉक्टोरल, पोस्ट डॉक्टोरल स्तर पर रिसर्च आदि खर्च के लिए ये रुपये दिये जाएंगे। सरकार ही इसका गारंटर है, ऐसे में बैंक में किसी गारंटर को नहीं ले जाना पड़ेगा।’ सीएम ने कहा, ‘जो पश्चिम बंगाल के निवासी हैं, कम से कम 10 साल से जो पश्चिम बंगाल में रहते आ रहे हैं, उन्हें भारत या विदेशों में उच्च शिक्षा के लिए स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड की सुविधा मिल सकती है। 40 वर्ष की उम्र तक ये क्रेडिट कार्ड ले सकते हैं और नौकरी लगने के एक साल बाद 15 साल के अंदर सॉफ्ट लोन के माध्यम से क्रेडिट वापस देना होगा।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

महानगरः सिनेमा हॉल में स्क्रीनिंग….

कुछ सिनेमा हाल मालिकों ने सिंगल स्क्रीनिंग के साथ शुरू किया परिचालन सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः शहर के सिनेमा हॉल मालिकों ने कहा कि वे पश्चिम बंगाल सरकार आगे पढ़ें »

ऊपर