प्रदेश नेतृत्व का संगठन कमजोर, इसलिए नहीं मिल पायी सत्ता : शुभेंदु

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : इस बार विधानसभा चुनाव में भाजपा ने सत्ता दखल का सपना देखा था, लेकिन पार्टी आशा के अनुरूप नतीजे नहीं कर पायी। कुल मिलाकर 77 सीटों में ही भगवा पार्टी को सिमट जाना पड़ा। उस समय ही राजनीतिक विशेषज्ञों ने कहा था कि तृणमूल की तुलना में काफी कमजोर संगठन के कारण ही भाजपा के नतीजे आशा के अनुरूप नहीं आये। ये बात अब विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने भी स्वीकार कर ली है। नये प्रदेश अध्यक्ष के सम्मान कार्यक्रम में शुभेंदु अधिकारी ने ये बात कही। यहां उल्लेखनीय है कि इससे पहले भी भाजपा में इसे लेकर आत्म मंथन तो हुआ है, लेकिन कभी भरी सभा में इस तरह सांगठनिक कमजोरी काे हार के कारण के तौर पर किसी ने नहीं बताया था। शुभेंदु अधिकारी ने कहा, ‘भाजपा को समर्थन में कोई कटौती नहीं है। 38.13% वोट मिलने पर केंद्र सरकार का गठन किया जा सकता है, लेकिन यहां इतने वोट मिलने के बावजूद विधायक संख्या नहीं बढ़ा पाये, दूसरी ओर 47% से अधिक वोट एकत्रित हुए हैं।’ उन्होंने कहा, ‘राज्य में 77 हजार बूथ हैं, इनमें 12 हजार बूथों पर कमेटी बनाना काफी कठिन है, लेकिन बाकी जगहों पर अगर हम बूथ कमेटी नहीं बना पाये, बूथ संगठन तैयार नहीं कर पाये तो हम एक बड़े अंश की सीटों पर जीतेंगे, लेकिन सरकार में नहीं जा पायेंगे।’ शुभेंदु ने कार्यकर्ताओं को लोकतंत्र में 51 और 49 का मतलब भी समझाया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

वैक्सीनेशन में टॉप-3 में बंगाल, 7 करोड़ से अधिक को लगे टीके

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः राज्य में वैक्सीनेशन में पश्चिम बंगाल देश में टॉप-3 में है। इससे साफ जाहिर हो रहा है कि बड़े पैमाने पर वैक्सीनेशन की आगे पढ़ें »

ऊपर