राजनीतिक हिंसा में मौत होने पर राज्य सरकार की व्यर्थता : दिलीप घोष

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : राज्य में चुनाव बाद हिंसा में मौतें क्यों नहीं रोकी जा रही ? बंगाल में हिंसा राेकने के लिए पुलिस या प्रशासन द्वारा कोई कदम क्यों नहीं उठाया जा रहा है ? बुधवार को भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष ने बेलदा में आयोजित एक कार्यक्रम में उक्त बातें कही। बेलदा के खाकुड़दा में लगभग 200 बाढ़ पीड़ितों को दिलीप घोष ने तिरपाल दिये। उन्होंने कहा, ‘राजनीतिक हिंसा में मौत होने पर ये ममता सरकार की व्यर्थता है। सीबीआई की जांच के समय ममता बनर्जी ने कहा था कि उनकी पार्टी के 16 कार्यकर्ताओं की मौत भाजपा के हाथों हुई है। अगर ऐसा हुआ है तो पुलिस ने इस पर कोई कदम क्यों नहीं उठाया ? हिंसा में किसी की मौत होने पर चाहे वह किसी भी पार्टी का क्यों ना हो, दोषियों को सजा मिलनी चाहिये।’ उन्होंने सवाल किया, ‘क्यों हिंसा बंद नहीं हो रही ? हिंसा में किसी की मौत होने पर ये तृणमूल सरकार की व्यर्थता है।’ दिलीप घोष ने कहा, ‘हमारी पार्टी के कार्यकर्ताओं को पीटकर उनके हाथ – पैर तोड़ दिये गये, उन्हें गांव छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा। मुख्यमंत्री कहती हैं कि 6 लाख तिरपाल बांटे गये हैं, नहीं पता ये सब कहां गये। 5 लाख लोगों को हटाया गया है, लेकिन लोग तो अपने घरों में ही हैं।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

अब महिलाओं में बढ़ने लगा ‘Period Underwear’ का क्रेज, जानें क्या…

कोलकोताः महिलाओं के उन मुश्किल दिनों को आसान बनाने के लिए मार्केट में 'पीरियड पैंटी' आ चुकी है। हालांकि अभी तक बहुत कम महिलाएं ही आगे पढ़ें »

ऊपर