…तो क्या शाह की सभा में भाजपा में शामिल होंगे शिशिर अधिकारी ?

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : आगामी 24 मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कांथी आ रहे हैं। इससे पहले 21 मार्च को एगरा में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भाजपा की सभा को संबाेधित करने वाले हैं। दोनों ही सभाओं में कांथी के तृणमूल सांसद शिशिर अधिकारी मौजूद रह सकते हैं। बुधवार को चंडीपुर में भाजपा की सभा से उनके बेटे शुभेंदु अधिकारी ने इसकी घोषणा की। उन्होंने कहा कि मोदी की सभा में शिशिर तो रहेंगे ही, इससे पहले ही एगरा में अमित शाह की सभा में भी वह अपने पिता को जाने के लिए कहेंगे। शिशिर ने पहले ही बताया था कि मझले बेटे (शुभेंदु) का निर्देश मिलने पर ही वह मोदी की सभा में जाएंगे। उन्होंने कहा था कि ‘शांतिकुंज’ का गृहकर्ता होने के बावजूद सारे निर्णय उनके मझले बेटे ही लेते हैं। उस मझले बेटे ने ही बुधवार को अपने पिता के अगले कदम के बारे में बताया। हाल में तृणमूल सांसद अभिषेक बनर्जी द्वारा शिशिर अधिकारी के खिलाफ कही गयी बातों का विरोध करते हुए शुभेंदु अधिकारी ने कहा, ‘शिशिर अधिकारी को आप जानते हैं। शिशिर बाबू मोदी जी की सभा में रहेंगे, इंतजार कीजिये। मैं तो कहूंगा, इससे भी पहले अमित जी की सभा में चले जाइये। 21 को एगरा में अमित जी की सभा है।’
ये कहा शिशिर अधिकारी ने
शुभेंदु अधिकारी से पहले शिशिर अधिकारी ने बुधवार को कहा, ‘किसने कहा मैं तृणमूल में हूं ? लोग ऐसा कहते हैं क्या ?’ मौका मिलने पर प्रधानमंत्री की चुनावी सभा में जाने की बात शिशिर अधिकारी ने कही। उन्होंने कहा, ‘जिस दिन शुभेंदु भाजपा में चला गया, उस दिसम्बर महीने से मेरे बाप-दादा और पूरे खानदान के नाम पर गाली – गलौज की जा रही है। मीरजाफर बेईमान कहा जा रहा है। किसका खाया, किसका हमने भोग किया, मुझे नहीं पता। मिदनापुर के लोग जानते हैं कि मैं भोगी हूं या त्यागी।’ इसके कुछ घण्टे बाद ही शुभेंदु की घोषणा से अब यह तय हो गया है कि मार्च महीने में ही शिशिर अधिकारी को भाजपा में देखा जाएगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पलक झपकते आर्थिक तंगी दूर कर देते हैं ये रामबाण उपाय

कोलकाता : अगर आपका कोई काम सफल नहीं हो पाता, लाख कोशिशों के बाद भी पैसे नहीं रुकते। आप चाहकर भी वो नहीं कर पाते आगे पढ़ें »

बड़ा मंगलवार कल, जानें हनुमान जी की पूजा का शुभ मुहूर्त, महत्व

कोलकाता : बड़ा मंगलवार कल है। बड़ा मंगलवार के मौके पर भक्त बजरंगबली की पूजा-अर्चना करेंगे। इसे बुढ़वा मंगल भी कहा जाता है। कल मंगलवार आगे पढ़ें »

ऊपर