तो क्या सीटी-स्कैन का हो रहा दुरुपयोग!

ज्यादा इस्तेमाल कैंसर का हो सकता है कारण
कोलकाताः जिस प्रकार से कोरोना वायरस का मामला फैल रहा है, उस प्रकार से लोगों में इसका आतंक भी बढ़ता जा रहा है। वहीं देखा जा रहा है कि इन दिनों कोरोना के डर में लोग बेवजह डॉक्टरों के भी चक्कर लगाने से नहीं चूक रहे। साथ ही बेवजह कई जांच भी करवा रहे हैं। इसी प्रकार से गैर-जरुरी दवाओं के लेने के मामले भी सामने आ रहे हैं। अब सीटी स्कैन को लेकर भी बड़ा खुलासा हुआ है। दरअसल अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा है कि इसके ज्यादा इस्तेमाल से कैंसर की संभावना हो सकती है।
डॉकटर गुलेरिया ने अपने बयान में कहा है कि आजकल बहुत ज्यादा लोग सीटी स्कैन करवा रहे हैं। जरूरत है कि ध्यान रखा जाए कि अगर सीटी स्कैन की जरूरत नहीं है तो इससे बचने की आवश्यकता है। यदि कोई इसे करवा रहा है तो स्वयं को ही नुकसान पहुंचा रहा है।
ऑनकोलॉजिस्ट व सरोज गुप्ता कैंसर सेंटर एण्ड रिसर्च इंस्टिट्यूट के निदेशक डॉ.अर्नब गुप्ता ने कहा कि सीटी स्कैन से कैंसर हो सकता है, ऐसा नहीं है। दरअसल दो से तीन बार सीटी स्कैन करवाने से ऐसा नहीं हो सकता है। इससे अधिक बार भी सीटी स्कैन करवाने से केवल .001% ही कैंसर होने की संभावना रहती है। हालांकि कोविड मरीजों की सही जांच के लिए सीटी स्कैन आवश्यक है। देखा जा रहा है कि 90 फीसदी से अधिक गैर लक्षण वाले कोरोना मरीज सामने आ रहे हैं। यह मरीज भले ही स्वयं के लिए चिंता का विषय नहीं है, हालांकि यदि यह अधिक उम्र वालों, कैंसर मरीज, किडनी के मरीज के संपर्क में आते हैं तो चिंता की बात है। ऐसे में इन मरीजों को चि‌न्हित करके उन्हें आइसोलेट करना आवश्यक है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

दो श्मशान और एक कब्रिस्तान बना रही है कोलकाता नगर निगम

कोविड शवों की बढ़ती संख्या बढ़ा रही है प्रशासन की परेशानी सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : राज्य में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे है। इस आगे पढ़ें »

पत्नी ने ससुराल जाने से किया इनकार, हताश पति ने खुद को चाकू से गोदा

नदियाः पत्नी के विरह में पागल दिलीप दास (40) के साथ उसकी पत्नी ने ससुराल जाने से इनकार कर दिया। इस बात से दुःखी दिलीप आगे पढ़ें »

ऊपर