…तो क्या आर अहमद डेंटल हॉस्टल में हुई थी पार्टी ?

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : महज 24 घंटों में ही 13 से 22 पर पहुंच गया मामला वह भी रातों रात। यह डॉ. आर अहमद डेंटल कॉलेज व अस्पताल में कोविड संक्रमित मरीजों के आंकड़े है जो और बढ़ सकते है। डेंटल कॉलेज में भी कोविड तूफान की रफ्तार से बढ़ रहा है। राज्य में भी कोरोना का संक्रमण बढ़ता ही जा रहा है। राज्य में ओमिक्रोन संक्रमण के पहले से ही 16 मामले हैं। इस बीच, सियालदह के आर अहमद डेंटल कॉलेज अस्पताल ने और चिंता बढ़ा दी है। अहमद डेंटल कॉलेज में गुरुवार को 13 लोग कोरोना से संक्रमित हुए। शुक्रवार को उस संख्या में 9 और जोड़े गए। कुल 22 लोगों में डॉक्टर से लेकर नर्सिंग स्टाफ तक ये सभी हैं। शुक्रवार को 9 कोरोना पीड़ितों में 6 डॉक्टर और एक नर्सिंग स्टाफ भी था। लेडीज हॉस्टल सुपर की 14 साल की बेटी भी कोविड संक्रमित हुई है। सूत्रों की माने तो हॉस्टल में पार्टी की गयी थी मगर आधिकारिक रूप से इस बारे में कोई मुंह खोलने को तैयार नहीं है। अर्थात अचानक से बढ़े कोविड के मामलों का कारण क्या हॉस्टल में पार्टी का होना है यह एक बड़ा सवाल है।
शहर के इस सरकारी डेंटल कॉलेज में इस समय भयावह स्थिति है। एक के बाद एक डॉक्टर पर कोरोना का हमला हो रहा है। गुरुवार को जो 13 लोग संक्रमित हुए, वे सभी डॉक्टर थे। कुल मिलाकर अहमद डेंटल कॉलेज अस्पताल में दहशत का माहौल है। सबसे ज्यादा चिंता की बात यह है कि यहां के हॉस्टल सबसे ज्यादा प्रभावित हो रहे हैं। छात्रावास के निवासी संक्रमित हो रहे हैं। डॉ.राजू विश्वास ने कहा कि लगभग सभी को 100 से 103 डिग्री बुखार हो गया है। पूरे शरीर में असहनीय दर्द होता है। आम तौर पर विदेशी योग इस समय नहीं होता है, लेकिन उन्हें जीनोम अनुक्रमण के लिए नमूने भेजने होते हैं। हालांकि डेंटल कॉलेज में जो लोग कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं, उन्होंने अभी तक अपने जीनोम सीक्वेंसिंग पर कोई फैसला नहीं लिया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

आज रेड रोड पर सुरक्षा चाक चौबंद, 1200 पुलिस कर्मी रहेंगे तैनात

रविवार रात से रेड रेड व आसपास की सड़कों पर वाहनों का यातायात बंद शहर के विभिन्न इलाकों में चला गया नाका चेकिंग सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : स्वतंत्रता आगे पढ़ें »

ऊपर