…तो क्या निजी परिवहन से हट रहा सरकार का नियंत्रण?

गैरकानूनी तरीके से बढ़े किराये ले रहे बसों में कंडक्टर
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः पेट्रोल व डीजल की कीमतों में लगातार वृद्धि हो रही है। इसका असर हर क्षेत्र पर पड़ा है। देखा जा रहा है कि निजी व मिनी बसों के किराये मनमाने तौर पर बस कंडक्टर ले रहे हैं। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि क्या निजी बसों से सरकार का नियंत्रण खत्म होता जा रहा है। इसे लेकर निजी बस मालिकों का कहना है कि स्थितियां काफी गंभीर हैं। हम डीजल की कीमतों में वृद्धि के बाद भी राज्य में निजी बसों की परिसेवा जारी रख रहे हैं। कोविड काल में भी बसों को आम लोगों के लिए चलाने का प्रयास बस मालिक कर रहे हैं। ऑल बंगाल बस मिनी बस समन्वय समिति के महासचिव राहुल चटर्जी ने कहा कि यदि ‌निजी बसों में मनमाना किराया लिया जा रहा है, तो कहीं न कहीं इसे सरकार बढ़ावा दे रही है। सीधे तौर पर गैरकानूनी तरीके से किराया अधिक लिया जा रहा है, जरूरत है कि सरकार हस्तक्षेप करे।
उत्तर बंगाल में 50% बसें सड़कों पर उतरी ही नहीं
राहुल चटर्जी ने कहा कि अब भी उत्तर बंगाल में केवल 50% बसें ही चल रही हैं। ऐसे में साफ है कि परिवहन की स्थिति कैसी है। हम जल्द निजी बसों के किराये में वृद्धि की मांग पर एक बार फिर से ठोस अपील परिवहन विभाग व सरकार से करेंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

पश्चिम बंगाल जल्द बूस्टर डोज का परीक्षण करेगा

6 अस्पतालों ने जताई इच्छा सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : पश्चिम बंगाल सरकार महानगर में कोविड-19 रोधी टीके की बूस्टर खुराक का जल्द परीक्षण करने की योजना बना आगे पढ़ें »

ऊपर