…तो इस दिन से राज्य में होने वाली है ओला वृष्टि

राज्य में 22-24 जनवरी तक बारिश व ओला वृष्टि की संभावना
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाताः
राज्य में एक बार फिर से बारिश की संभावना बन रही है। अलीपुर मौसम विभाग के निदेशक जी.के.दास ने कहा कि तापमान में धीरे-धीरे वृद्धि होगी। इसके बाद वीकेंड पर मौसम में बदलाव होगा, आसमान पर बादल छाए रहेंगे। इसके बाद राज्य भर में 22-24 जनवरी के बीच बारिश की संभावना है। साथ ही साथ पश्चिमी जिलों में ओला वृष्टि भी हो सकती है। एक बार फिर से पश्चिमी तूफान का प्रभाव पड़ने जा रहा है। पूर्वी हवा और ठंडी पछुआ हवाओं के कारण राज्य में बारिश शुरू होगी।
कोलकाता में 23 व 24 को हो सकती है बारिश
कोलकाता में बुधवार की सुबह न्यूनतम तापमान 13.3 डिग्री सेल्सियस रहा। यह सामान्य से 1 डिग्री सेल्सियस कम रहा। वहीं अधिकतम तापमान 23.1 डिग्री सेल्सियस था। यह सामान्य से तीन डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। अलीपुर मौसम विभाग के निदेशक जी.के.दास ने कहा कि द‌क्षिण बंगाल में 23 व 24 जनवरी को बारिश की संभावना है। ऐसे में कोलकाता में भी इसी दो दिनों में बारिश हो सकती है।
पूर्वानुमान
-22-24 जनवरी: उत्तर बंगाल के जिलों में हल्की से मध्यम वर्षा
-23-24 जनवरी:-द‌क्षिण बंगाल के जिलों में हल्की से मध्यम वर्षा
चेतावनी
-22-23 जनवरी के दौरान उत्तर बंगाल के जिलों में बिजली और ओलावृष्टि के साथ गरज के साथ बौछारें पड़ने की संभावना
-23-24 जनवरी के दौरान दक्षिण बंगाल के जिलों में बिजली और ओलावृष्टि के साथ गरज के साथ बौछारें पड़ने की संभावना
संभावित प्रभाव
– खेत में बागवानी और खड़ी फसलों और सब्जियों को नुकसान
-वर्षा गतिविधि के कारण दृश्यता में कमी
-ओलावृष्टि/बारिश की तीव्र अवधि के कारण दार्जिलिंग और कलिम्पोंग के पहाड़ी इलाकों में भूस्खलन
कार्रवाई का सुझाव
-परिपक्व सब्जियों की कटाई की जा सकती है
– फसल के खेत से अतिरिक्त पानी निकाल दें
-उर्वरक और कीटनाशकों का प्रयोग न करें क्योंकि यह धुल सकता है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

पानीहाटी में तृणमूल कार्यालय पर बमबारी

पानीहाटी : खड़दह थाना अंतर्गत पानीहाटी के एंजेल नगर इलाके में कुछ समाज विरोधियों ने पहले बमबारी की। इसके बाद बीटी रोड मातारंगी भवन नामक आगे पढ़ें »

ऊपर