लघु उद्योगों, निर्यातकों ने की लॉकडाउन में राहत की मांग

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : आगामी 15 जून तक पश्चिम बंगाल में सख्ती बढ़ाये जाने के बाद छोटे और मध्यम उद्योगों और निर्यातकों ने सख्ती में कुछ राहत देने की मांग की है। स्मॉल एण्ड मीडियम एंटरप्राइज के फेडरेशन के अध्यक्ष विश्वनाथ भट्टाचार्य ने राज्य सरकार को दिये गये पत्र में कहा, ‘राज्य के लघु, छोटे व मध्यम उद्योग अपनी आजीविका की लड़ाई लड़ रहे हैं और ऐसे समय में किसी तरह की सख्ती से यूनिट को बचाने में मुश्किल होगी। हमारी अपील है कि एमएसएमई को उनकी इकाईयां चलाने की अनुमति दी जाएं जहां कोविड प्रोटोकॉल को मानते हुए काम किया जाएगा।’ देश में सबसे अधिक एमएसएमई पश्चिम बंगाल में है जो राज्य की अर्थव्यवस्था में भी अहम भूमिका निभाती है। इस बीच, निर्यातकों और उनके संगठनों ने संयुक्त रूप से राज्य सरकार को पत्र दिया है जिसमें सख्ती में ढिलाई बरतने की मांग की गयी है। उनका कहना है कि निर्यातक इकाईयों में अगर 50% क्षमता के साथ कार्य करने की अनुमति दी जाए तो अकाउंटिंग, एक्सपोर्ट डोक्यूमेंटेशन, कस्टम, पोर्ट फॉरमैलिटी आदि कार्य हाे सकते हैं जो घर से संभव नहीं है। ऐसे में फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट ऑर्गनाइजेशन, इंजीनियरिंग एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल, काउंसिल फॉर लेदर एक्सपोर्ट, केमिकल्स एण्ड एलिड प्रोडक्ट्स एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल, शेलैक और फॉरेस्ट प्रोडक्ट्स एक्सपोर्ट प्रमो​शन काउंसिल, प्लास्टिक एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल आदि संगठनों की ओर से राज्य सरकार को पत्र दिया गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सुबह उठकर दोनों हाथों की ‘हथेलियों’ को देखने से भी बदलती है किस्मत

कोलकाता : सुबह उठकर हाथों की हथेलियों को देखना बहुत ही शुभ माना गया है। ऐसा प्रतिदिन करने से जीवन में मान सम्मान प्राप्त होता आगे पढ़ें »

आज से भक्तों के लिये खुल जायेंगे दक्षिणेश्वर मंदिर के कपाट

कोलकाता : कोलकाता के कालीघाट व मायापुर मंदिर के खुलने के बाद कोरोना के घटते ग्राफ को देखते हुए गुरुवार यानी आज से दक्षिणेश्वर मंदिर आगे पढ़ें »

ऊपर