शुभेंदु ने किया कटाक्ष, कहा…

 कोलकाता : सोमवार को विपक्ष के नेता शुभेंदु अधिकारी ने तृणमूल पर कटाक्ष करते हुए कहा कि बंगभूषण और बंगविभूषण कार्यक्रम की गरिमा राजनीतिक भाषण देकर नष्ट की गयी। उन्होंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर हमला बोलते हुए कहा कि जिस तरह उन्होंने प्रधानमंत्री पर हमला किया, कानून-व्यवस्था और मीडिया पर उंगली उठायी, इस तरह की बातें कहकर मुख्यमंत्री ने सम्मान प्रदान कार्यक्रम की गरिमा नष्ट की। यहां महानायक उत्तम कुमार के नाम का इस्तेमाल किया गया था, राज्य में पहले कभी ऐसा नहीं हुआ। गत 72 घण्टों से उन्होंने कुछ नहीं कहा था, हालांकि इस दिन उन्होंने एक तरफ पार्थ चट​र्जी को छोड़ने की कोशिश की तो दूसरी ओर, करोड़ों के इस घाेटाले में उन्होंने ऐसी बातें कही कि नियुक्ति के संदर्भ में उनकी नीति स्पष्ट हो गयी। उन्होंने अपने लोगों को नौकरी देने की बात कही, रिटायर्ड जस्टिस के नाम का उल्लेख किया, इस तरह उन्होंने एसएससी समेत सभी स्तरों पर नियुक्तियों को सही बताया। सरकारी क्षेत्रों में नौकरी के लिए परीक्षा, मेधा जैसी बातों को उन्होंने अंगूठा दिखाने की कोशिश की। लाखों एसएससी छात्रों को माकपा व भाजपा का कैडर बताकर उन्होंने छात्रों के आंदोलन का अपमान किया। उनकी परस्पर विरोधी बातों से लगता है कि इस बार वह आतंकित हैं और डर गयी हैं। सम्मान प्रदान कार्यक्रम में नहीं जाने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि मैंने बहिष्कार नहीं किया, मेरा दूसरा कार्यक्रम था। एसएसकेएम अस्पताल की गरिमा नष्ट करने की बात करते हुए उन्होंने कहा कि वुडबर्न वॉर्ड को चोरों के लिए आरक्षित कर दिया गया है। इसी तरह प्रदेश भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष डॉ. इंद्रनील खां ने कहा कि एसएसकेएम राज्य का एकमात्र सरकारी मल्टीसुपरस्पेशियलिटी अस्पताल है। हालांकि कोई आम मरीज जाता है तो उनके लिए बेड की सुविधा उपलब्ध नहीं होती जबकि राज्य के मंत्री जाते हैं तो उनके लिए वीआईपी ट्रीटमेंट उपलब्ध कराया जाता है। राज्य का एसएसकेएम अस्पताल भी अब दुर्नीति और राजनीति का अखाड़ा बन गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

बुधवार को इस विधि से करें गणेश जी के सिद्धि विनायक रूप की पूजा, बन जाएंगे बिगड़े काम

कोलकाता : सप्ताह का हर वार किसी देवी-देवता को समर्पित है। बुधवार का दिन भगवान शंकर और माता पार्वती के छोटे पुत्र गणेश जी का आगे पढ़ें »

ऊपर