शिशिर अधिकारी ने कब भाजपा का झण्डा थामा, पता नहीं : दिलीप घाेष

सन्मार्ग संवाददाता
काेलकाता : एक तरफ मुकुल राय को लेकर शुभेंदु अधिकारी ने स्पष्ट कहा है कि उन्हें विधायक पद छोड़ना होगा, नहीं तो भाजपा बुधवार को स्पीकर के पास जायेगी और स्पीकर ने भी कदम नहीं उठाया तो फिर कोर्ट का दरवाजा खटखटाया जाएगा। वहीं दूसरी ओर, तृणमूल के प्रवक्ता कुणाल घोष ने इसका जवाब देते हुए कहा कि पहले अपने घर में शुभेंदु अधिकारी को दलबदल कानून लागू करना चाहिये क्योंकि भाजपा में शामिल होने के बावजूद अब तक उनके पिता शिशिर अ​धिकारी और भाई सौमेंदु अधिकारी ने​ विधायक पद नहीं छोड़ा है। इस मुद्दे पर अब प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि शिशिर अधिकारी और सौमेंदु अधिकारी ने कब भाजपा का झण्डा थामा, यह उन्हें पता ही नहीं है। मंगलवार को मुरलीधर सेन लेन स्थित भाजपा मुख्यालय में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए दिलीप घोष ने कहा, ‘हो सकता है कि कुछ मुद्दों पर शिशिर अधिकारी और सौमेंदु ने भाजपा का समर्थन किया हो। सांसद होने के तौर पर वह पीएम के कार्यक्रम में पहुंचे हों, ले​किन कब उन्होंने भाजपा का झण्डा पकड़कर पार्टी के समर्थन में प्रचार किया, या फिर कोई सभा की, यह मुझे नहीं पता। अगर कुणाल घोष ये जानते हैं तो फिर अलग बात है।’ इधर, 2026 तक आईपैक के साथ तृणमूल के समझौते के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि लगता है कि आईपैक ने ही उन्हें जिताया है, जनता ने नहीं। मुकुल राय को शुभेंदु अधिकारी द्वारा विधायक पद छोड़ने की बात का समर्थन करते हुए दिलीप घोष ने कहा ​कि मुकुल वरिष्ठ नेता हैं और अगर उन्होंने पार्टी छोड़ी तो विधायक पद भी जरूर छोड़ना चाहिये।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्सहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

महानगरः सिनेमा हॉल में स्क्रीनिंग….

कुछ सिनेमा हाल मालिकों ने सिंगल स्क्रीनिंग के साथ शुरू किया परिचालन सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः शहर के सिनेमा हॉल मालिकों ने कहा कि वे पश्चिम बंगाल सरकार आगे पढ़ें »

ऊपर