शांतिपुर में दो भाजपा समर्थकों की हत्या से माहौल हुआ अशांत

तृणमूल और भाजपा समर्थकों में हुई धक्का-मुक्की
भाजपा ने बुलाया 12 घंटे शांतिपुर बंद
नदियाः नदिया के शांतिपुर के मेथीरडांगा इलाके के केलाबागान से गुरुवार की सुबह दीपंकर विश्वास (35) एवं प्रताप बर्मन (25) का रक्तरंजित शव बरामद होने से इलाके में बवाल मच गया। अंचल के भाजपा नेताओं का आरोप है कि राजनीतिक कारणों से दोनों दोस्तों की हत्या की गयी है। इन दिनों में वे भाजपा में काफी सक्रिय भूमिका में थे। समर्थकों की हत्या के प्रतिवाद में शुक्रवार को 12 घंटा शांतिपुर बंद का आह्वान भाजपा ने किया है। दोनों राजमिस्त्री का काम करते थे। मृतकों के घरवालों का आरोप है कि उनकी हत्या की गई है। दिपंकर विश्वास की पत्नी रीता विश्वास ने बताया कि बुधवार शाम 7 बजे के करीब कोलकाता से आ रहे अपने एक दोस्त को स्टेशन से लाने जाने की बात कहकर वे दोनों बाइक से निकले थे मगर रात गहराने पर भी वह घर नहीं लौटे। फोन संपर्क करने पर फोन भी स्वीच ऑफ पाया गया। वहीं दूसरे दिन सुबह 8 बजे हत्या की खबर पाकर पुलिस वहां पहुंची तब तक दोनों शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा चुका था। पुलिस अधिकारियों ने मोबाईल पर खिंची गयी फोटो से शव को दिखाकर पहचान करवायी है। दुसरी तरफ, प्रताप बर्मन की मां झूमा बर्मन का कहना है कि उनका बेटा रात में कभी कभी दिपंकर के घर पर सो जाया करता था। बुधवार पूरे दिन घर पर ही था, कई बार कहने पर भी खाना नहीं खाया, शाम पांच बजे खाना खाने के लिए अंतिम बार उन्होंने पूछा मगर बेटे ने बाद में खाने की बात कही और शाम को घर से निकला गया। वह पूरी रात घर नहीं लौटा वहीं अगली सुबह बेटे की मौत की खबर उन्हें मिली। खबर पाकर भाजपा सांसद तथा शांतिपुर केंद्र के प्रार्थी जगन्नाथ सरकार शांतिपुर थाना गये। उनका दावा है कि दोनों की हत्या की गई हैं। उनका आरोप है कि परिवारवालों से पहचान कराये बिना ही पुलिस ने आनन-फानन में शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इसमें पुलिस का कोई दोष नहीं है क्योंकि ममता बनर्जी पुलिस को दल दास बना दी हैं। पुलिस तृणमूल के निर्देश के मुताबिक ही काम कर रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि अस्पताल में ही मृतक के परिजनों से साथ दो व्यक्ति आकर मिले थे। मृतकों को भाजपा कर्मी नहीं बताने पर 10 हजार रुपया देने तथा बाद में और भी आर्थिक सहायता देने की पेशकश उन्होंने की। उसकी बात भाजपाईयों के कान में पड़ते ही उत्तेजना फैल गई। भाजपा का आरोप है कि दोनों तृणमूल कांग्रेस की ओर से भेजे गये प्रतिनिधि हैं जो मामले को दबाने के लिए घरवालों को पैसा देने का प्रयास किये। उनके बीच धक्का-मुक्की हुई। आरोप है कि आर्थिक पेशकश करनेवाले व्यक्ति को पुलिस गिरफ्तार करने के बदले भागने में मदद की है जिसके प्रतिवाद में भाजपा कार्यकर्ताओं ने थाना के सामने विक्षोभ-प्रदर्शन किया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मास्क पहनने के लिए कहने पर महिला यात्री से बदसलूकी, एक गिरफ्तार

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : ऑटो में बिना मास्क के सफर कर रहे व्यक्ति को मास्क पहनने को कहना एख महिला को काफी महंगा पड़ा गया। आरोप आगे पढ़ें »

पुलिस कर्मियों में संक्रमण बढ़ते देख फिर चालू हो रहा क्वारंटाइन सेंटर

डुमुरजला पुलिस अकादमी और भवानीपुर पुलिस अस्पताल में चालू हुआ केन्द्र सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : महानगर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। पिछले आगे पढ़ें »

ऊपर