भाजपा का शाहनवाज हुसैन के ‘तीर’ से ‘टीएमसी’ पर निशाना

पटनाः 2020 बिहार विधानसभा चुनाव में बेहतर प्रदर्शन करने वाली बीजेपी अब पूरी तरह से बंगाल चुनाव पर केंद्रित है। बीजेपी के रणनीतिकारों ने बिहार में अपने राष्ट्रीय प्रवक्ता सैयद शाहनवाज हुसैन के जरिए एक ऐसा तीर चलाया है जिससे ना सिर्फ बिहार में आरजेडी को नुकसान हो सकता है बल्कि, पड़ोसी राज्य बंगाल की सत्तारूढ़ टीएमसी पर भी असर डाल सकता है।
शाहनवाज और मुकेश आज करेंगे नामांकन पत्र दाखिल
28 जनवरी को बिहार विधान परिषद की दो सीटों पर उप – चुनाव होना है। बिहार विधान परिषद की यह दोनों सीट बीजेपी की है जो पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी के राज्यसभा सांसद बनने और बिहार सरकार के पूर्व मंत्री विनोद नारायण झा के एमएलए बनने से खाली हुई थी। आज बीजेपी की ओर से राष्ट्रीय प्रवक्ता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन बिहार विधान परिषद के लिए नामांकन पत्र दाखिल करेंगे। वहीं विकासशील इंसान पार्टी की ओर से मुकेश साहनी भी अपना पर्चा दाखिल करेंगे। बता दें कि एनडीए में बीजेपी ने ही मुकेश सहनी की पार्टी को शामिल कराया था और चुनाव पूर्व बीजेपी ने मुकेश सहनी को विधान परिषद की एक सीट देने का वादा किया था। हालांकि दो दिन पहले मुकेश सहनी ने विधान परिषद जाने से मना कर दिया था। इसके पीछे का कारण यह बताया जा रहा था कि मुकेश सहनी को बिहार सरकार के पूर्व मंत्री विनोद नारायण झा की खाली हुई सीट दी जा रही थी, जिसका कार्यकाल 2022 तक ही बचा है। लेकिन बीजेपी और एनडीए नेताओं से बातचीत के करने के बाद मुकेश सहनी मान गए। सूत्र बताते हैं कि मुकेश सहनी को सुशील कुमार मोदी की खाली हुई सीट से परिषद भेजा जा रहा है। बता दें कि इस सीट का कार्यकाल 2024 तक का है।
शाहनवाज हुसैन नामक ‘ तीर ‘ से किसे भेदना चाहती है बीजेपी
2020 में बिहार विधानसभा चुनाव जीतने के बाद बीजेपी की नजर अब 2021 में होने वाले बंगाल चुनाव पर है। पश्चिम बंगाल में मिशन 200+ लेकर चल रही है बीजेपी बिहार में मिशन आरजेडी पर भी काम कर रही है। भाजपा अपने राष्ट्रीय प्रवक्ता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन को बिहार विधान परिषद भेज कर जहां आरजेडी के एमवाई समीकरण को तोड़ने की कोशिश कर रही है। वहीं बंगाल चुनाव में ममता बनर्जी की टीएमसी की ओर से बीजेपी को सांप्रदायिक और मुस्लिम विरोधी बताए जाने के काट के तौर पर शाहनवाज हुसैन का चेहरा सामने कर दिया है।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

शिवसेना पश्चिम बंगाल में नहीं लड़ेगी चुनाव, तृणमूल को दिया समर्थन

बंगाल इकाई ने अलग किये रास्ते तृणमूल ने किया शिव सेना के फैसले का स्वागत कोलकाता : राष्ट्रीय जनता दल और समाजवादी पार्टी के बाद शिव सेना आगे पढ़ें »

ईसीएल ने 500 टन कोयला चोरी का पता लगाया था लेकिन कार्रवाई नहीं हुई

कोयला तस्करी मामले में रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों से सीबीआई ने की घंटों पूछताछ कोलकाता : ईस्टर्न कोलफिल्ड्स लिमिटेड (ईसीएल) के सतर्कता दल ने शिल्पांचल की आगे पढ़ें »

ऊपर