बंगाल की 4 चिटफंड कंपनियों की संपत्ति की निलामी की तैयारी की सेबी ने

ये हैं चारों चिटफंड कंपनियां
एमपीएस ग्रुप, विबग्योर ग्रुप, प्रयाग ग्रुप, पाइलन ग्रुप और मल्टीपर्पज बायोस इंडिया ग्रुप
64 करोड़ रुपये के आरक्षित मूल्य पर की जाएगी निलामी
पश्चिम बंगाल में हैं संपत्तियां
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : बंगाल की 4 चिटफंड कंपनियों की संपत्ति की निलामी की तैयारी सेबी की ओर से की जा रही है। सेबी निवेशकों का पैसा निकालने के लिए 30 जून को एमपीएस ग्रुप, विबग्योर ग्रुप, प्रयाग ग्रुप, पाइलन ग्रुप और मल्टीपर्पज बायोस इंडिया ग्रुप की कंपनियों की संपत्तियों की निलामी करेगा। इनकी नीलामी करीब 64 करोड़ रुपये के आरक्षित मूल्य पर की जाएगी। सेबी ने एक नोटिस में कहा कि नीलाम की जाने वाली संपत्तियां पश्चिम बंगाल में है। जिन 20 संपत्तियों की नीलामी की जानी है उनमें जमीन के टुकड़े, कई मंजिला इमारतें, एक कार्यालय स्थल, एक वाणिज्यिक स्थल और एक फ्लैट शामिल हैं।
ऑनलाइन होगी निलामी
इन संपत्तियों की बिक्री के लिए बोलियां आमंत्रित करते हुए सेबी ने कहा कि संपत्तियों की नीलामी 30 जून को सुबह 11 बजे से दोपहर एक बजे के बीच ऑनलाइन की जाएगी। नोटिस के मुताबिक, इन संपत्तियों का कुल आरक्षित मूल्य लगभग 64 करोड़ रुपये आंका गया है। सेबी द्वारा क्विकर रियल्टी को संपत्तियों की बिक्री में सहायता के लिए नियुक्त किया गया है। नियामक ने कहा कि बोलीदाताओं को अपनी बोलियां जमा करने से इन संपत्तियों की स्वतंत्र रूप से खुद जांच करनी चाहिए। नोटिस में कहा गया है। इन संपत्तियों की नीलामी सभी मौजूदा और भविष्य की देयता के साथ की जाएगी। सेबी किसी भी तीसरे पक्ष के दावों या अधिकारों या बकाया के लिए जिम्मेदार नहीं होगा। निवेशकों का पैसा ब्याज सहित वापस न करने पर सेबी पहले ही इन कंपनियों कुछ संपत्तियों को कुर्क कर चुका है। एपीएस समूह की कंपनियों में एमपीएस ग्रीनरी डेवलपर्स शामिल हैं, जिसने गैरकानूनी सामूहिक निवेश योजनाओं (सीआईएस) के जरिये निवेशकों से 1,520 करोड़ रुपये जुटाए थे। इन सब के खिलाफ सीबीआई की टीम भी कार्रवाई कर चुकी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

पीएसी में और एक साल चेयरमैन रहेंगे मुकुल

कोलकाता : पब्लिक अकाउंट कमेटी समेत विधानसभा की 15 कमेटियों की मियाद एक साल के लिए बढ़ा दी गयी है। शुक्रवार को इससे संबंधित प्रस्ताव आगे पढ़ें »

ऊपर