लाह पर बैठा है सियालदह का बैठकखाना बाजार,दिल्ली की घटना से सबक लेने की जरूरत

सन्मार्ग संवाददाता,कोलकाता : यह एक नजीर है कि जब तक कि कोई बड़ी घटना नहीं घटे तब तक प्रशासन की नींद नहीं खुलती है। अब वह दिल्ली का झासी रानी बाजार हो या फिर कहीं और। सबकी हालत एक जैसी ही है। दिल्ली की तरह कोलकाता का भी बैठकखाना बाजार सहित कई बाजार लाह पर बैठे हैं। उनमें कभी भी बड़ी दुघर्टना घट सकती है। अगर आग लगी तो दिल्ली जैसा ही हाल होगा और लोग बेमौत मारे जाएंगे।

आग लगी तो दमकल की गाडी भी अंदर नहीं जा पाएगी

सियालदह के निकट स्थित बैठकखाना बाजार काफी पुराना बाजार है। इस बाजार का आलम यह है कि अगर आग लगती है तो बुझाने के लिए दमकल की गाडियां भी अंदर नहीं जा पाएंगी। अंदर की स्थिति इतनी भयानक है कि आप सोच भी नहीं सकते हैं। मानों पूरे बाजार पर प्लास्टिक की चादर बिछा दी गई है। छोटी-छोटी दुकानों पर प्लास्टिक की छावनी है। उल्लेखनीय है कि दिल्ली अग्निकांड के कई कारणों में से एक कारण प्लास्टिक भी है। बताया जा रहा है कि इमारत में बड़ी मात्रा में प्लास्टिक रखा हुआ था। इसके जलने से कार्बन मोनोऑक्साइड निकलने लगी और वह कमरों में भर गई जिससे मजदूरों का दम घुंट गया।

एक चिनगारी कर देगी बाजार को राख

बैठकखाना बाजार के कुछ दुकानदारों का कहना है कि यहां बाजार बेहद जर्जर हालत में पहुंच चुका है। चारों तरफ झूलते तार और प्लास्टिक से पटा यह बाजार बस एक चिनगारी भड़कने से राख हो सकता है। हालांकि बाजार के संबंधित संगठनों से कोशिश के बावजूद इस बाबत सम्पर्क नहीं हो पाया है।

कई बाजारों और इलाकों की हालत है खराब

बागड़ी मार्केट, गरियाहाट बाजार और अन्य कई बाजारों में आग लगने के बाद निगम ने बाजारों में तिरपाल के रूप में प्लास्टिक के इस्तेमाल पर पाबंदी लगा दी थी। अब यह बात दीगर है कि पाबंदी सिर्फ कागजों पर ही सिमट कर रह गयी। अभी भी महानगर के लगभग सभी बाजार ही प्लास्टिक से पटा हुए हैं। खिदिरपुर बाजार, बड़ा बाजार, हाथी बागान और बैठकखाना बाजार सहित सभी बाजारों में हॉकर्स अपनी दुकानों में प्लास्टिक का इस्तेमाल धड़ल्ले से कर रहे हैं।

नंदराम, बागड़ी मार्केट अग्निकांड से नहीं ली सबक

महानगर कई बाजारों के अग्निकांड का गवाह रहा है। इसके बावजूद न तो दुकानदार चेते हैं और न ही प्रशासन अभी तक पूरी तरह से सजग हो पाया है। नंदराम मार्केट में 2008 में भयावह आग लगी थी बाजार करीबन सात दिनों तक जलता रहा था। इस वजह से करोड़ों का नुकसान हुआ था। दूसरी तरफ 2018 में बागड़ी मार्केट में भी भयावह आग लगी और करोड़ों का नुकसान हुआ था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

वेस्टइंडीज जीत के करीब, इंग्लैंड ने दूसरी पारी में 313 रन बनाए

साउथैम्पटन : इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में वेस्टइंडीज जीत की ओर है। मैच के पांचवें दिन टी ब्रेक तक मेहमान टीम ने 4 विकेट के आगे पढ़ें »

पगबाधा का फैसला सिर्फ और सिर्फ डीआरएस से हो : तेंदुलकर

नयी दिल्ली : महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अंपायरों के फैसलों की समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को ‘अंपायर्स कॉल’ को हटाने आगे पढ़ें »

ऊपर