सेंट्रल एवेन्यू पर भाजपा समर्थकों और पुलिस में धक्का-मुक्की, दर्जनों गिरफ्तार

बंगाल बचाव सप्ताह के अवसर पर भाजपा ने निकाली थी मशाल रैली
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : भाजपा की मशाल रैली को लेकर सेंट्रल एवेन्यू में पुलिस और भाजपा कर्मियों के बीच जमकर बवाल हुआ। आरोप है कि बिना अनुमति के ही भाजपा की ओर सेमशाल रैली निकाली गयी। पुलिस द्वारा रोके जाने पर भाजपा समर्थकों ने बैरिकेड तोड़ने के साथ-साथ पुलिस कर्मियों के साथ धक्का-मुक्की की। इस दौरान पुलिस ने 10 से 12 भाजपा समर्थकों को गिरफ्तार किया।
क्या है पूरी घटना
जानकारी के अनुसार 9 अगस्त से भाजपा एक सप्ताह व्यापी बांग्ला बचाव सप्ताह का पालन कर रही है। पहले दिन ही मशाल रैली निकाली गयी। सोमवार को मुरलीधर सेन लेन और भवानीपुर में भाजपा समर्थकों द्वारा निकाली गैयी रैली को पुलिस ने शुरू होते ही रोक दिया। सोमवार की शाम 5 बजे भाजपा के प्रदेश मुख्यालय से मसाल रैली शुरू होते ही कोरोना परिस्थ‌िति के मद्देनजर पुलिस ने उसकी रैली रोक दी। इसके बाद ही भाजपा समर्थक और पुलिस कर्मियों के बीच धक्का-मुक्की हई। कोरोना के कारण पुलिस ने भाजपा को मशाल रैली की अनुमति नहीं दी थी। इस संबंध में कोलकाता पुलिस की ओर से भाजपा कार्यालय के सामने पोस्टर भी लगाया गया था। आरोप है कि इस निषेधाज्ञा का उल्लंघन कर भाजपा समर्थकों ने हाथ में मशाल लेकर रैली निकाला। हालांकि पार्टी कार्यालय से निकलकर भाजपा समर्थक गली से भी बाहर नहीं निकल पाए। पुलिस ने बैरिकेड से उसे रोक दिया। इसके बाद ही भाजपा समर्थक सड़क पर बैठ गए।
सोमवार को भाजपा समर्थक मुरलीधर सेन लेन से मशाल रैली लेकर सरदार वल्लभ बाई पटेल मुर्ति तक जाने वाले थे। हालांकि सप्ताह व्यापी कार्यक्रम के पहले दिन ही भाजपा समर्थकों को जोरदार धक्का लगा। भाजपा समर्थक यह समझ भी नहीं पाए कि इतनी बड़ी संख्या मे पुलिस कर्मी इलाके में मौजूद रहेंगे। भाजपा नेता मीनादेवी पुरोहित ने बताया कि पुलिस ने जो किया वह बिल्कुल ठीक नहीं था। हमलोग पार्टी ऑफिस से बाहर बी नहीं निकल पाए। हमलोग शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन करना चाहते थे लेकिन वह भी नहीं करने दिया गया। वहीं दूसरी ओर राज्य में भाजपा समर्थकों की हत्या के खिलाफ में दक्षिण कोलकाता के भवानीपुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत वार्ड नं. 63 के कैमेक स्ट्रीट स्थित भाजपा के बेटी के निकट शहीद दिवस मनाया गया। इस मौके पर भाजपा नेता नवीन मिश्रा ने बताया कि केन्द्र सरकार को बदनाम करने की कोशिश राज्य सरकार कर रही है। लोगों को तृणमूल कार्यालय से वैक्सीन का कूपन बांटा जा रहा है। लोगों को फर्जी वैक्सीन लगाकर उनके जीवन के साथ खेला जा रहा है। इस मौके पर रवीन्द्र चौधरी, धनेश त‌िवारी, शंकर चौधरी, रितेश सिंह,संध्या पांडेय, करन हेला,‌ व‌िंध्याचल मिश्रा, मनोज चौबे, गोपाल मूंधड़ा, फैयाज खान, राजीव खंडेलवाल, निर्मल श्रेष्ठ, दिनेश किवारी, सुरेश सिमोन, अमोद कमात सहित अन्‍य कार्यकर्ता मौजूद थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

मिनी भारत है भवानीपुर, यहीं से शुरू होगी दिल्ली की लड़ाई : ममता

कहा : निष्पक्ष चुनाव हुआ होता तो 30 सीट भी न जीत पाती भाजपा 6 महीने में विधायक बनना जरूरी, इसके बिना सीएम पद उचित नहीं लोगों आगे पढ़ें »

ऊपर