9वीं से 12वीं के स्टूडेंट्स के लिए खुल गये स्कूल, दिखा भारी उत्साह

विश्वविद्यालयों में पहले दिन उपस्थिति लगभग 85%
कॉलेजों में पहले दिन उपस्थिति : 78%
स्कूलों में पहले दिन उपस्थिति : 72%
फूलों व चॉकलेटों से किया गया स्टूडेंट्स का स्वागत
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : पश्चिम बंगाल में लगभग 20 महीने के लंबे अंतराल के बाद 9वीं से 12वीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए स्कूल मंगलवार को फिर से खुल गए। स्कूलों के दोबारा खुलने से जहां बच्चों और शिक्षकों में खुशी देखी गयी, वहीं अभिभावकों का एक वर्ग इसको लेकर चिंतित भी है। राज्य में प्राथमिक और आठवीं कक्षा तक के विद्यार्थियों के लिए कक्षाएं फिलहाल ऑनलाइन रूप में ही जारी रहेंगी। राज्य के शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु ने कहा है कि धीरे-धीरे सभी विद्यार्थियों को कक्षाओं में वापस लाने के प्रयास जारी हैं। इधर, स्कूल खुलने के बाद कहीं फूल तो कहीं चॉकलेट देकर स्टूडेंट्स का स्कूल में स्वागत किया गया। वहीं राज्य सरकार की ओर से बताया गया कि पहले दिन राज्य के स्कूलों में लगभग 72% उपस्थिति दर्ज की गयी जबकि विश्वविद्यालयों में पहले दिन 85% उपस्थिति दर्ज की गयी। इसी तरह कॉलेजों में पहले दिन 78% उपस्थिति दर्ज की गयी।
कतार से विद्यार्थियों ने स्कूल में किया प्रवेश
राज्य सरकार द्वारा माध्यमिक और उच्च माध्यमिक कक्षाओं के विद्यार्थियों के लिए अलग-अलग समय में कक्षाएं शुरू करने के घोषित कार्यक्रम के अनुसार राज्य भर के विभिन्न स्कूलों के प्रवेश द्वारों पर विद्यार्थी सुबह से ही कतारबद्ध दिखाई दिए। इस दौरान यह सुनिश्चित किया गया कि कोविड संबंधी नियमों और मानदंडों का कड़ाई से पालन हो।
अभिभावकों में खुशी के साथ चिंता भी
लगभग 20 महीने के बाद स्कूल खुलने से अभिभावकों में खुशी के साथ – साथ चिंता भी है। उनके बच्चे स्कूल में कोविड के नियम कितना मानेंगे, इसे लेकर अभिभावक चिंतित हैं क्योंकि काफी लम्बे समय के बाद बच्चे अपने दोस्तों से​ मिलेंगे और एक साथ पढ़ाई करेंगे। यहां उल्लेखनीय है कि 2020 के मार्च महीने से ही कोविड के कारण स्कूल बंद हैं। बाद में लॉकडाउन हटा लिया गया था, लेकिन महामारी के कारण स्कूल व कॉलेज बंद ही रखे गये थे। 9वीं के छात्र के एक अभिभावक पार्थ विश्वास ने कहा, ‘मैंने अपने बेटे को कोविड के सभी प्रोटोकॉल मानने के लिए कहा है, मुझे सच में नहीं पता कि इसे कितना मेंटेन किया जाएगा क्योंकि बच्चे काफी लम्बे समय बाद एक – दूसरे से मिल रहे हैं।’
कॉलेजों व विश्वविद्यालयों के गेट भी खुले
मंगलवार को छात्रों के लिए कॉलेजों और विश्वविद्यालयों के गेट भी खोल दिये गये, हालांकि इन संस्थानों के कुछ अधिकारियों ने कहा कि अलग – अलग दिनों में स्टूडेंट्स को कॉलेजों में बुलाया जाएगा ताकि कैम्पस में अधिक भीड़ ना हो।
छात्रों व शिक्षकों में दिखी काफी खुशी
20 महीने के अंतराल के बाद स्कूल पहुंचकर काफी खुश महसूस कर रही द​क्षिण कोलकाता की एक निजी स्कूल की छात्रा सोहिनी मुखर्जी ने कहा, ‘इतने लम्बे समय के बाद स्कूल आकर काफी अच्छा लग रहा है, ऑनलाइन और आमने – सामने अपने दोस्तों और शिक्षकों से मिलने में काफी अंतर है।’ इसी तरह उत्तर कोलकाता के एक सरकारी स्कूल के शिक्षक ने कहा, ‘ये काफी अच्छा है कि अब बच्चे हमारे बीच वापस आ गये हैं। हमारे जैसे संस्थान में ऑनलाइन और आमने-सामने बातचीत में काफी अंतर है।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

नई तारीखों का एलान, 26 दिसंबर से टेस्ट और 19 जनवरी से वनडे सीरीज की शुरुआत

भारत को इस महीने दक्षिण अफ्रीका का दौरा करना है। टीम इंडिया का यह दौरा कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खतरे के बीच होगा। आगे पढ़ें »

ऊपर