कल से खुलेंगे स्कूल – कॉलेज, चालू हो जायेंगी कक्षाएं

* कोविड प्रोटोकॉल का होगा पालन
* स्टूडेंट्स के पास ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों के हैं विकल्प
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : 16 नवंबर से राज्य में 20 महीने बाद स्कूल खुलने जा रहे हैं। राज्य सरकार ने कक्षा 9 से 12 तक तथा कॉले​ज व विश्वविद्यालयों को खोलने की अनुमति दे दी है। इसके बाद क्रमवार में सभी कक्षाओं के लिए भी स्कूल खोल दिये जायेंगे। रविवार को राज्य के शिक्षा मंत्री ब्रात्य बसु ने कहा कि 16 नवंबर से स्कूल, कॉलेज व विश्वविद्यालय खोलने के बाद अगले कुछ दिनों तक देखा जायेगा कि क्या स्थिति है। सबकुछ ठीक रहा तो सभी कक्षाओं को चालू करने की अनुमति दे दी जायेगी। हमलाेगा चाहते हैं कि सभी कक्षाओं में पढ़ाई हो।
बच्चों को स्कूल भेजना है या नहीं, अभिभावक लेंगे फैसला
कल से भले ही स्कूल खुल रहे हैं मगर स्टूडेंट्स को स्कूल भेजने का फैसला पूरी तरह से अभिभावकों का है। शिक्षा मंत्री पहले ही यह कह चुके हैं कि अगर कोई बच्चा स्कूल नहीं आता है तो चिंता की बात नहीं है। ना ही उसके एटेंडेंस को लेकर ही कोई समस्या होगी। मंत्री ब्रात्य बसु ने कहा कि स्कूल भेजने को लेकर राज्य सरकार किसी तरह का दबाव नहीं बनायेगी। यह फैसला अभिभावकों का होगा। उन्होंने कहा कि अभिभावक चाहेंगे तो अपने बच्चों को स्कूल भेजेंगे, जो नहीं चाहेंगे वे अपने बच्चे को स्कूल नहीं भेजेंगे। कोविड को लेकर चिंता हो ही सकती है। इस विषय पर सरकार किसी तरह की जोर जबरदस्ती नहीं करेगी।
एक नजर मुख्य बातों पर
* स्कूलों में कोरोना के नियमों का सख्ती से पालन करना अनिवार्य है।
* मास्क सहित सोशल डिस्टेंसिंग का पालन जरूरी
* ऑनलाइन कक्षाएं भी रहेंगी जारी, स्टूडेंट्स के पास ऑफलाइन और ऑनलाइन दोनों के हैं विकल्प
* स्पोर्ट्स, व कल्चरल प्रोग्राम कुछ समय तक बंद रह सकते हैं। सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखकर क्वीज व अन्य गेम खेले जा सकते हैं।
* टीचर्स व अभिभावक एक साथ भीड़ नहीं करेंगे, छोटे-छोटे ग्रुप में मिल सकते हैं।
* कक्षा शुरू होने से घंटे भर पहले टीचर्स को पहुंचना होगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

रूपा के बगावती तेवर

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : कोलकाता नगर निगम चुनाव का बिगुल बज चुका है। ऐसे में चुनाव की रणनीति तय करने के लिए राजनीतिक पार्टियों के बीच आगे पढ़ें »

ऊपर