सांसद पड़े नरम, पहुंचे हावड़ा में आयोजित तृणमूल की रैली में

सौगत ने सांसद प्रसून को किया फोन
अरूप राय के नेतृत्व में निकाली गयी रैली में प्रसून व भाष्कर भट्टाचार्य
राजीव, लक्ष्मीरतन व वैशाली नहीं हुए शामिल
हावड़ा : रविवार को हावड़ा में तृणमूल की ओर से एक विशाल रैली निकाली गयी जिसका नेतृत्व राज्य के मंत्री अरूप राय ने किया। इसमें मुख्य रूप से सांसद प्रसून बनर्जी, जिलाध्यक्ष भाष्कर भट्टाचार्य, विधायक जटू लाहिड़ी शामिल हुए। उनके साथ हावड़ा के कई वार्डों के पूर्व पार्षद भी शामिल थे। ​रविवार को एक विशाल रैली जो कि डोमुरजुला स्टेडियम से लेकर हावड़ा मैदान तक निकाली गयी। यह रैली गत गुरुवार को भाजपा की ओर से निकाली गयी रैली के जवाब में निकाली गयी थी। इसमें भारी संख्या में लोग मौजूद थे।इस दौरान वार्ड नंबर 29 से भी पूर्व पार्षद शैलेश राय के नेतृत्व में भारी संख्या में जुलूस निकाला गया था जो कि डोमुरजुला की विशाल रैली में जाकर मिल गया।
इस मौके पर अरूप राय ने कहा कि साल 2021 हमारे लिए चुनौतीपूर्ण है और हम इस चुनौती को पार करेंगे और राज्य में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की ही सरकार बनेगी। वहीं प्रसून बनर्जी ने भी कहा कि ममता बनर्जी की ही सरकार वापस आ रही है।
सौगत के फोन से निकला समाधान
बताया जाता है कि सौगत राय ने सांसद प्रसून बनर्जी को फोन किया जिसके बाद उनकी समस्या का समाधान हो गया। दरअसल प्रसून बनर्जी ने कहा था कि वह पार्टी के व्यवहार से दुखित है। जिले में इतने फेरबदल हुए लेकिन उन्हें इसकी जानकारी मीडिया व कर्मियों से हो रही है। ऐसे में प्रसून भी लक्ष्मीरतन शुक्ला की तरह क्षुब्ध होकर कोई गलत फैसला नहीं ले ले। इसके लिए सौगत ने उन्हें मनाने की जिम्मेदारी अपने कंधे पर ले ली। सांसद को काम करने में क्या-क्या समस्याएं हो रही है। इसकी उन्होंने जानकारी ली। इसके बाद प्रसून् ने उनसे खुलकर बात की। उन्होंने साफ कह दिया कि वह पार्टी नहीं छोड़ेंगे। रविवार को सभी बातों को भुलकर वह रैली में शामिल हो गये। वहीं पीके व उनकी टीम के बारे में कहनेवाले विधायक जटू लाहिड़ी भी इस रैली में शामिल हुए।
राजीव, लक्ष्मी व वैशाली थे नदारत
तृणमूल की इतनी विशाल रैली में राज्य के मंत्री राजीव बनर्जी, उत्तर हावड़ा के विधायक लक्ष्मीरतन शुक्ला व बाली की विधायक वैशाली डालमिया नदारत रहे। ये तीनों ही रैली में शामिल नहीं हुए। इसके बाद राजनैतिक गलियारों में चर्चाएं तेज हो गयी है। कई बार यह देखा जा रहा है कि जिले में होनेवाले तृणमूल के किसी बड़े कार्यक्रम में ये तीनों ही शामिल नहीं हो पा रहे थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मंगलवार के दिन ये 6 काम करना होता है बड़ा ही अमंगलकारी

कोलकाताः पवनपुत्र हनुमान हर समस्या से अपने भक्तों को बचाते हैं। ज्योतिष के अनुसार, मंगलवार के दिन इनके पूजा करने से इंसान के सभी भौतिक आगे पढ़ें »

..धन लाभ से लेकर करियर में सफलता के लिये करे ये 5 उपाय

कोलकाता : हिंदू धर्म में हर दिन किसी ना किसी भगवान को समर्पित हैं। मंगलवार के दिन संकटमोचन भगवान हनुमान जी की पूजा की जाती आगे पढ़ें »

ऊपर