ई-कॉमर्स कंपनी के नाम पर रिटायर्ड आयकर आयुक्त से ठगे गए रुपये

पुलिस की तत्परता से वापस मिले रुपये
कोलकाता : खुद को ई-कॉमर्स कंपनी का कर्मचारी बताकर जालसाज ने पूर्व मुख्य आयकर आयुक्त से 20 हजार रुपये ठग लिए। पोर्ट डिविजन के साइबर क्राइम थाने की पुलिस की तत्परता से जालसाज द्वारा ठगे गये रुपये को बरामद कर वापस पूर्व आयकर आयुक्त को सौंप दिया गया। जानकारी के अनुसार कुछ दिनों पहले रिटायर्ड मुख्य आयकर आयुक्त ने एक ई-कॉमर्स कंपनी की साइट पर सामान बुक किया था। कई दिन बाद भी सामान नहीं मिलने पर उन्होंने सोशल मीडिया के जरिए कंपनी से शिकायत की। इस बीच एख दिन उन्हें एक व्यक्ति ने खुद को ई-कॉमर्स कंपनी का कर्मचारी बताकर फोन किया और रिटायर्ड आयकर अधिकारी को फोन पर एक ऐप डाउनलोड करने के लिए कहा था। जालसाज की बातों में आकर उन्होंने एक ऐप डाउनलोड कर लिया। आरोप है कि ऐप डाउनलोड करने के बाद जालसाज ने उन्हें 2 रुपये का पेमेंट करने के लिए कहा और फ‌िर उनके अकाउंट से 20 हजार रुपये निकाल लिए। ठगी का पता चलने पर उन्होंने डीसी पोर्ट से संपर्क कर मदद मांगी। इसके बाद पुलिस ने तत्परता दिखाते हुए जालसाज ने जिस अकाउंट में रुपये ट्रांसफर किए थे उसे ब्लॉक किया और उनके रुपये बरामद कर लिए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

हाई कोर्ट ने खारिज की नेताजी के टैबलो से जुड़ी पीआईएल

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस प्रकाश श्रीवास्तव और जस्टिस राजर्षि भारद्वाज के डिविजन बेंच ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के टैबलो को आगे पढ़ें »

ऊपर