छूट मिलते ही हावड़ा में तोड़े जाने लगे हैं नियम

सुबह से बाजारों में दिखने लगी है भीड़
एक बार फिर बढ़ सकता है संक्रमण का खतरा : स्वास्थ्य अधिकारी
हावड़ा : प्रशासन द्वारा सख्ती बरतने के बाद कुछ दिनों तक सभी को नियमों का पालन करने को मजबूर होना पड़ा। लेकिन प्रतिबंधों में ढील दी गई और हावड़ा फिर से अपनी पुराने ढर्रे पर लौट आया है। सभी दुकानें सुबह से दिन भर खुली रहती हैं। कोविड-नियमों की धज्जियां उड़ाकर अलग-अलग बाजारों और गलियों में भीड़ उमड़ रही है। पूरे हावड़ा शहर में ऑटो, टोटो, टैक्सी समेत तमाम तरह के वाहन चल रहे हैं। मानों लग रहा है कि कोरोना चला गया है। वहीं हावड़ा के लोगों के इस चलन को देखकर जिला प्रशासन से लेकर जिला स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी भी सशंकित हैं। उन सभी को डर है कि पहली लहर के बाद लोगों का जो लापरवाह रवैया, उससे दूसरी लहर का आह्वान किया। अब यह देख लग रहा है कि तीसरी लहर के आने का मार्ग प्रशस्त होता है। 2 जून को एक आधिकारिक बुलेटिन के अनुसार हावड़ा में 70 लोग नए संक्रमित हुए और 10 लोगों की मौत हो गई है। यह राज्य के संक्रमित मामले में हावड़ा तीसरे नंबर पर है। मरने वालों की संख्या के मामले में उत्तर 24 परगना पहले नंबर पर है, उसके बाद कोलकाता का नंबर है। हजारों लोग बिना मास्क और बिना सोशल डिस्टेंसिंग के सड़क पर घुमते हुए नजर आये। शुक्रवार को हावड़ा के बॉटनिकल गार्डन थाना क्षेत्र, हावड़ा मैदान, बंगबासी, मल्लिक गेट, नेताजी सुभाष रोड, पंचानंतल्ला रोड, फांसीतल्ला मोड़ और कैरी रोड पर हजारों लोग सड़कों पर दिखाई दिये। देखा जाये तो सरकारी व गैर सरकारी बसों को छोड़कर रोड पर ऑटो, टोटो और टैक्सियाँ देखी जा रही है, क्योंकि दुकानें फिर से खुल गई हैं। वहीं पुलिस की ओर से भी काई रोक टोक नहीं है। अधिकांश ऑटो या टोटो ड्राइवर के पास फेस मास्क नहीं होते हैं। बाजार के दुकानदार भी मास्क नहीं लगा रहे हैं। ऐसी तस्वीरें शुक्रवार की दोपहर मल्लिकघाट और जीटी रोड इलाके में देखने को मिलीं। ऐसा लग रहा है कि कोविड ने सच में अलविदा कह दिया है। हावड़ा जिला स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने कहा ​कि लोगों के इस लापरवाह रवैये से स्थिति फिर से खराब हो सकती है। इस संबंध में पुलिस प्रशासन को कार्रवाई करनी चाहिए। हावड़ा सिटी पुलिस अधिकारियों के एक वर्ग के अनुसार, 15 जून तक सख्त पाबंदियों के बावजूद, खुदरा विक्रेताओं को दोपहर 12 बजे से दोपहर 3 बजे तक अपनी दुकानें खुली रखने की अनुमति है। उन्होंने कहा कि नोटिस जारी होने के बाद से उल्लंघन की झड़ी लग गई है। सभी दुकानें खुल रही हैं क्योंकि नोटिस में स्पष्ट रूप से उल्लेख नहीं है कि खुदरा विक्रेता कौन हैं। इस बीच, लोग दूरी के नियमों का पालन किए बिना लंबी लाइनें लगा रहे हैं क्योंकि शराब की दुकानें भी दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक खुली रहती हैं। हावड़ा जिले के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी निताई मंडल ने कहा कि हावड़ा में जैसे ही कोविड पर धीरे-धीरे काबू पाया गया, सभी दुकानें खुल गईं और सड़कों पर भीड़ लग गई। यह नियंत्रण कम से कम एक और महीने के लिए होता तो बेहतर होता। हालांकि, संक्रमण फिर से बढ़ सकता है। हावड़ा सिटी पुलिस के एक अधिकारी ने कहा कि मानवता की खातिर अब कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। जो लोग अभी सड़कों पर निकल रहे हैं, वे बेपरवाह होकर निकल रहे हैं। हालांकि, अगर ऐसा ही चलता रहा तो जल्द ही कार्रवाई की जाएगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

साल्टलेक सेक्टर-5 स्टेशन का भी निजीकरण

अब बंधन बैंक का लगा स्टेशन पर नाम कोलकाताः मेट्रो रेलवे की ओर से कई स्टेशनों को निजीकरण किए जाने की पहल पहले ही गई है। आगे पढ़ें »

महिला को डायन करार देकर पीटने का आरोप

मिदनापुर: पश्चिम मिदनापुर जिले के जंगलमहल इलाके में एक बार फिर से एक महिला को डायन करार देते हुए उसे बुरी तरह से पीटे जाने आगे पढ़ें »

ऊपर