ब्रेकिंगः महानगर में चलने लगी हवायें, होने लगी बारिश

कोलकाताः चक्रवाती तूफान ‘यास’ के बुधवार शाम तक ओडिशा के पारादीप और सागर आइलैंड्स के बीच लैंडफॉल करने का अनुमान है। इससे पहले आज ही महानगर में हवायें चलने लगी है और बारिश भी होने लगी है। 26 मई को राज्य के सभी जिलों मे हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश होगी। दक्षिणी भाग में भारी बारिश हो सकती है। 27 मई को भी पूरे राज्य में बहुत भारी बारिश होने का अनुमान है।
चक्रवात का नाम ‘यास’ किसने रखा?
वर्ल्‍ड मीटरोलॉजिकल ऑर्गनाइजेशन सभी नामों की लिस्‍ट का ब्‍योरा रखती है। वैसे तो इन्‍हें रोटेट किया जाता है लेकिन अगर कोई साइक्‍लोन ज्‍यादा खतरनाक हो तो उसका नाम रिटायर कर देते हैं। आमतौर पर नामों की यह लिस्‍ट संबंधित क्षेत्र के सदस्‍यों देशों के मौसम विभाग बनाते हैं। हर साल या छह महीने पर होने वाली बैठक में आने वाले चक्रवातों के नाम तय किए जाते हैं।
हिन्द महासागर क्षेत्र के आठ देशों ने भारत की पहल पर 2004 से चक्रवातीय तूफानों को नाम देने की व्यवस्था शुरू की थी। इसके तहत सदस्य देशों की ओर से पहले से सुझाये गए नामों में से एक का चयन किया जाता है। इन देशों में भारत, बांग्लादेश, पाकिस्तान, म्यामांर, मालदीव, श्रीलंका, ओमान और थाईलैंड शामिल हैं।
इस बार के तूफान का नाम ओमन ने सुझाया था। ‘यास’ का मतलब होता है ‘निराशा। इससे पहले आए चक्रवात का नाम ताउते था जिसका सुझाव म्‍यांमार ने दिया था। लिस्‍ट में अगले चक्रवात का नाम ‘गुलाब’ है जो पाकिस्‍तान ने दिया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सीएम के प्रयास से राज्य में कोविड-19 की दूसरी लहर को नियंत्रित किया गया : विमान बनर्जी

दक्षिण 24 परगना : सीएम के प्रयास से राज्य में कोविड-19 की दूसरी लहर को सफलतापूर्वक नियंत्रित किया गया। बारुईपुर पश्चिम के विधायक व विधानसभा आगे पढ़ें »

वैशाखी की सुरक्षा की मांग पर शोभन ने सीपी को भेजा पत्र

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : रत्ना चट्टोपाध्याय उनकी हत्या की साजिश रच रही है। इस बीच वैशाखी को बलि का बकरा बनाने की साजिश रची जा रही आगे पढ़ें »

ऊपर