कोलकाता में फंसे राजस्थानी मूल के लोग रवाना हुए अपने गांव

अपने घर जाने की खुशी इनके चेहरे कर रहे थे बयां

सन्मार्ग संवाददाता, कोलकाता : खुशी अपने घर लौटने की। ये ऐसी खुशी है जो कोई शब्दों में बयां नहीं कर सकता। गत 25 मार्च से देशव्यापी लॉकडाउन के कारण देश के वि​भिन्न हिस्सों में फंसे लोग अपने – अपने घर लौटने का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। ऐसे में केंद्र सरकार ने फंसे श्रमिकों को अपने – अपने घर लौटने की छूट देकर इन लोगों को बड़ी राहत दी है। इसके तहत कोलकाता में रह रहे राजस्थानी मूल के लोग भी अब अपने – अपने गांव के लिए रवाना होने लगे हैं। कोटा से जो बस छात्रों को लेकर कोलकाता आयी थी, वही बस इन राजस्थानी लोगों को लेकर उनके गांव जा रही है। शनिवार को कैनिंग स्ट्रीट से एक बस में 25 लोग दुर्गापुर पहुंचे जहां से सभी राजस्थान के लिए रवाना हो गये।

काम बंद है तो कोलकाता में रहकर क्या करेंगे

राजस्थान के झालोर जिले में 25 लोग जा रहे हैं। सभी लोग बड़ाबाजार की विभिन्न दुकानों में काम करते हैं। जितेंद्र सिंह राजपुरोहित ने बताया कि गत 23 मार्च से यहां सब कुछ बंद है और कब खुलेगा, यह भी नहीं पता। अब काम ही बंद है तो कोलकाता में रहकर क्या करेंगे। जितेंद्र सिंह के साथ चक्रवर्ती सिंह, किशोर सिंह, चेतन सिंह समेत अन्य लोग हैं जो अपने – अपने गांव लौट रहे हैं। किसी के घर में केवल मां-बाप हैं तो किसी की कुछ महीने पहले शादी हुई है। ये लोग कोलकाता में अपने – अपने काम के कारण रह रहे थे। लौट रहे लोगों ने कहा कि अब लॉकडाउन खुलने और स्थिति स्वाभाविक होने के बाद ही वापस कोलकाता आयेंगे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मेंडिस की कार की टक्‍कर से बुजुर्ग की मौत, गिरफ्तार हुए

कोलंबो : श्रीलंका के क्रिकेटर कुसाल मेंडिस को रविवार को गिरफ्तार किया गया जब उनकी गाड़ी से टकराकर एक साइकिल सवार की मौत हो गई। आगे पढ़ें »

क्विंटन दूसरी बार बने क्रिकेटर ऑफ द ईयर, महिलाओं में लॉरा सर्वश्रेष्ठ

जोहानसिबर्ग : दक्षिण अफ्रीका के सीमित ओवरों के क्रिकेट कप्तान क्विंटन डिकॉक को क्रिकेट दक्षिण अफ्रीका (सीएसए) के वार्षिक पुरस्कार समारोह में साल का सर्वश्रेष्ठ आगे पढ़ें »

ऊपर